Tuesday, March 26, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

खुशखबरी- CISCE ने 10वीं-12वीं कक्षाओं में विभिन्न विषय के पासिंग मार्क्स में किया बदलाव, बदलाव नए सत्र से 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
खुशखबरी- CISCE ने 10वीं-12वीं कक्षाओं में विभिन्न विषय के पासिंग मार्क्स में किया बदलाव, बदलाव नए सत्र से 

 नई दिल्ली । काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट (CISCE) ने स्कूली छात्रों को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है। सीआईएससीई की ओर से आए बयान के मुताबिक उन्होंने 10वीं और 12वीं कक्षा में विभिन्न विषय के पासिंग मार्क्स में बदलाव किया है। अब 10वीं में पास होने के लिए छात्रों को न्यूनतम 33 प्रतिशत और 12वीं में पास होने के लिए 35 प्रतिशत अंक लाने होंगे। इससे संबंधित अधिसूचना जारी कर दी गई है। सीआईएससीई ने यह बदलाव पिछले दिनों मानव संसाधन विकास मंत्रालय के साथ हुई बैठक के बाद किया है। यह बदलाव सत्र 2018-19 से लागू होंगे। 

सीआईएससीई के मुख्य कार्यकारी और सचिव गैरी अराथून ने इस अधिसूचना के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि यह बदलाव देश में अन्य बोर्ड के अनुरूप परीक्षा की व्यवस्था बनाने और एकरूपता लाने के मकसद से किया गया है। नए बदलाव के तहत अब 10वीं और 12वीं की परीक्षा देने वाले छात्रों को बोर्ड में पास होने के लिए प्रत्येक विषय में 33 और 35 फीसदी अंक लाने होंगे। जबकि पहले उन्हें 35 और 40 फीसदी अंक लाने होते थे। बोर्ड ने इस संदर्भ में सभी संबद्ध स्कूलों के प्रमुखों को संबोधित करते हुए एक अधिसूचना जारी की है। 


बोर्ड ने सभी स्कूलों को आंतरिक परीक्षाओं में भी यह बदलाव लागू करने के लिए कहा है। बोर्ड की अधिसूचना में कहा गया है कि परिषद ने अन्य परीक्षा बोर्ड के साथ मानव संसाधन विकास मंत्रालय के साथ बैठक में हिस्सा लिया, जिसमें उसे अंतर बोर्ड कार्यकारी समूह (आईबीडब्ल्यूजी) का सदस्य बनाया गया।  

Todays Beets: