Friday, July 21, 2017

Breaking News

   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||   नियंत्रण रेखा के पास एक चौकी में जवान ने मेजर को गोली मारी, मेजर की मौत    ||   नियंत्रण रेखा पर गुरेज सेक्टर में घुसपैठ की कोशिश    ||   मानवाधिकार आयोग का आदेश, सेना की जीप से बंधे अहमद डार को दें 10 लाख मुआवजा    ||   सुरजेवाला ने कहा- सनसनी न फैलाएं, 'हां' चीन के दूत से मिले थे राहुल गांधी    ||   देखें, मुजफ्फरनगर के बीजेपी MLA उमेश मलिक ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को जेल भेजने की धमकी दी, मलिक धरने में बैठे टीचर्स से मिले थे    ||   हैम्बर्ग में 7 जुलाई को G20 समिट के लिए ब्रिक्स नेता होंगे शामिल, पीएम मोदी और चीन के राष्ट्रपति भी लेंगे हिस्सा    ||

एमफिल, पीएचडी के बाद नौकरी नहीं मिली, तो मुर्दाघर में नौकरी के लिए किया आवेदन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एमफिल, पीएचडी के बाद नौकरी नहीं मिली, तो मुर्दाघर में नौकरी के लिए किया आवेदन

कोलकाता।

पश्चिम बंगाल में बेरोजगारी का आलम कितना गंभीर है इसका अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि यहां के एक मेडिकल कॉलेज के मुर्दाघर में डोम की नौकरी के लिए एमफिल् और पीएचडी धारकों ने भी आवेदन किया है।

ये भी पढ़ें— ट्रांसजेंडर्स पा सकेंगे उच्च शिक्षा, IGNOU ने किया एडमिशन के लिए ऐलान

मामला मालदा मेडिकल कॉलेज से जुड़ा है। यहां अस्पताल प्रबंधन की ओर से लैब अटेंडेंट्स ग्रुप डी पद पर मुर्दा घर में नौकरी के लिए आवेदन मांगे गए थे। इसके लिए करीब 350 लोगों ने आवेदन किया है। इन लोगों में ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट, पीएचडी और एमफिल धारी शामिल हैं। ग्रुप डी में वह कर्मचारी आते हैं जिन्हें अस्पताल में शवों को संभालने और लाने—ले जाने का काम करना होता है।अस्पताल प्रशासन इस बात से हैरान है कि उच्च शिक्षित लोगों को अपनी योग्यता से कम के काम के लिए आवेदन करना पड़ रहा है। जानकारी के अनुसार, आवेदनकर्ताओं में से हर चौथा आवेदनकर्ता या तो पीएचडी या फिर एमफिल की पढ़ाई कर रहा था। वहीं कई आवेदनकर्ताओं में से कुछ तो डबल एमए और लगभग हर तीसरा आवेदनकर्ता ग्रेजुएट है।

ये भी पढ़ें— आईआईटी जेईई के एडमिशन और काउंसलिंग पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

ग्रुप डी  के लिए 7 जुलाई को अस्पताल प्रशासन ने आवेदनों की जांच शुरू की थी। इस नौकरी के लिए न्यूनतम क्वालिफिकेशन 8वीं पास तय की गई है। बता दें कि भारत में उच्च शिक्षित लोगों द्वारा अपनी योग्यता से कम की नौकरी के लिए आवेदन करने का यह पहला मामला नहीं है। साल 2015 में उत्तर प्रदेश में विधानसभा सचिवालय में चपरासी के महज 368 पदों के लिए लगभग 23 लाख आवेदन हुए थे। यह 23 लाख आवेदनकर्ता पीएचडी धारक थे। साथ ही जनवरी 2016 में यूपी के ही अमरोहा जिले में रेलवे में सफाईकर्मी के 114 पदों के लिए, लगभग 17 हजार एमबीए, बीटेक और बीएससी डिग्री धारकों ने आवेदन किया था।

 

Todays Beets: