Monday, November 20, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

एमफिल, पीएचडी के बाद नौकरी नहीं मिली, तो मुर्दाघर में नौकरी के लिए किया आवेदन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एमफिल, पीएचडी के बाद नौकरी नहीं मिली, तो मुर्दाघर में नौकरी के लिए किया आवेदन

कोलकाता।

पश्चिम बंगाल में बेरोजगारी का आलम कितना गंभीर है इसका अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि यहां के एक मेडिकल कॉलेज के मुर्दाघर में डोम की नौकरी के लिए एमफिल् और पीएचडी धारकों ने भी आवेदन किया है।

ये भी पढ़ें— ट्रांसजेंडर्स पा सकेंगे उच्च शिक्षा, IGNOU ने किया एडमिशन के लिए ऐलान

मामला मालदा मेडिकल कॉलेज से जुड़ा है। यहां अस्पताल प्रबंधन की ओर से लैब अटेंडेंट्स ग्रुप डी पद पर मुर्दा घर में नौकरी के लिए आवेदन मांगे गए थे। इसके लिए करीब 350 लोगों ने आवेदन किया है। इन लोगों में ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट, पीएचडी और एमफिल धारी शामिल हैं। ग्रुप डी में वह कर्मचारी आते हैं जिन्हें अस्पताल में शवों को संभालने और लाने—ले जाने का काम करना होता है।अस्पताल प्रशासन इस बात से हैरान है कि उच्च शिक्षित लोगों को अपनी योग्यता से कम के काम के लिए आवेदन करना पड़ रहा है। जानकारी के अनुसार, आवेदनकर्ताओं में से हर चौथा आवेदनकर्ता या तो पीएचडी या फिर एमफिल की पढ़ाई कर रहा था। वहीं कई आवेदनकर्ताओं में से कुछ तो डबल एमए और लगभग हर तीसरा आवेदनकर्ता ग्रेजुएट है।


ये भी पढ़ें— आईआईटी जेईई के एडमिशन और काउंसलिंग पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

ग्रुप डी  के लिए 7 जुलाई को अस्पताल प्रशासन ने आवेदनों की जांच शुरू की थी। इस नौकरी के लिए न्यूनतम क्वालिफिकेशन 8वीं पास तय की गई है। बता दें कि भारत में उच्च शिक्षित लोगों द्वारा अपनी योग्यता से कम की नौकरी के लिए आवेदन करने का यह पहला मामला नहीं है। साल 2015 में उत्तर प्रदेश में विधानसभा सचिवालय में चपरासी के महज 368 पदों के लिए लगभग 23 लाख आवेदन हुए थे। यह 23 लाख आवेदनकर्ता पीएचडी धारक थे। साथ ही जनवरी 2016 में यूपी के ही अमरोहा जिले में रेलवे में सफाईकर्मी के 114 पदों के लिए, लगभग 17 हजार एमबीए, बीटेक और बीएससी डिग्री धारकों ने आवेदन किया था।

 

Todays Beets: