Tuesday, September 19, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

उत्तराखंड में नए जिलों के निर्माण को लेकर सरकार और संगठन के बीच तनातनी जारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में नए जिलों के निर्माण को लेकर सरकार और संगठन के बीच तनातनी जारी

देहरादून। उत्तराखंड में सरकार और संगठन के बीच नए जिलों के निर्माण को लेकर आपसी तकरार बढ़ गई है। जिलों के निर्माण की तरफ मुख्यमंत्री की दिलचस्पी को न देखते हुए प्रदेश संगठन में काफी नाराजगी है। संगठन के लोगों ने मुख्यमंत्री को उस घोषणा पत्र की याद दिलाई जिसमें बेहतर शासन के लिए छोटी इकाईयां बनाने पर जोर दिया गया था।  

जनता का भरोसा उठ जाएगा

गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा कि पार्टी हमेशा छोटी इकाई बनाने के पक्ष में रही है। उन्होंने इसके लिए पुराने घोषणा पत्रों का भी हवाला दिया। रविवार को पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने बताया कि अगर सरकार अपने वादों पर खरा नहीं उतरेगी तो जनता का उसपर से भरोसा उठ जाएगा। ऐसे में राज्य में नए जिलों के निर्माण के लिए सरकार को जल्दी ही कदम उठाना चाहिए। 

सरकार और संगठन आमने-सामने


यहां आपको बता दें कि 19 दिसंबर को हुई घोषणा पत्र समिति की बैठक में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा था कि राज्य में चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में सरकार के पास समय कम है इस वजह से वह नए जिलों के निर्माण की घोषणा नहीं कर रही है। गौरतलब है कि राज्य सरकार की तरफ से मुसलमानों को नमाज की छुट्टी के ऐलान के बाद भी संगठन और सरकार के बीच तनाव बढ़ गया था।

इन जिलों की हो रही मांग

यहां आपको बता दें कि यमुनोत्री, कोटद्वार, रानीखेत और डीडीहाट को जिला बनाने की मांग लंबे समय से की जा रही है।

Todays Beets: