Tuesday, November 21, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

उत्तराखंड में नए जिलों के निर्माण को लेकर सरकार और संगठन के बीच तनातनी जारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में नए जिलों के निर्माण को लेकर सरकार और संगठन के बीच तनातनी जारी

देहरादून। उत्तराखंड में सरकार और संगठन के बीच नए जिलों के निर्माण को लेकर आपसी तकरार बढ़ गई है। जिलों के निर्माण की तरफ मुख्यमंत्री की दिलचस्पी को न देखते हुए प्रदेश संगठन में काफी नाराजगी है। संगठन के लोगों ने मुख्यमंत्री को उस घोषणा पत्र की याद दिलाई जिसमें बेहतर शासन के लिए छोटी इकाईयां बनाने पर जोर दिया गया था।  

जनता का भरोसा उठ जाएगा

गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा कि पार्टी हमेशा छोटी इकाई बनाने के पक्ष में रही है। उन्होंने इसके लिए पुराने घोषणा पत्रों का भी हवाला दिया। रविवार को पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने बताया कि अगर सरकार अपने वादों पर खरा नहीं उतरेगी तो जनता का उसपर से भरोसा उठ जाएगा। ऐसे में राज्य में नए जिलों के निर्माण के लिए सरकार को जल्दी ही कदम उठाना चाहिए। 

सरकार और संगठन आमने-सामने


यहां आपको बता दें कि 19 दिसंबर को हुई घोषणा पत्र समिति की बैठक में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा था कि राज्य में चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में सरकार के पास समय कम है इस वजह से वह नए जिलों के निर्माण की घोषणा नहीं कर रही है। गौरतलब है कि राज्य सरकार की तरफ से मुसलमानों को नमाज की छुट्टी के ऐलान के बाद भी संगठन और सरकार के बीच तनाव बढ़ गया था।

इन जिलों की हो रही मांग

यहां आपको बता दें कि यमुनोत्री, कोटद्वार, रानीखेत और डीडीहाट को जिला बनाने की मांग लंबे समय से की जा रही है।

Todays Beets: