Friday, July 20, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

उत्तराखंड में नए जिलों के निर्माण को लेकर सरकार और संगठन के बीच तनातनी जारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में नए जिलों के निर्माण को लेकर सरकार और संगठन के बीच तनातनी जारी

देहरादून। उत्तराखंड में सरकार और संगठन के बीच नए जिलों के निर्माण को लेकर आपसी तकरार बढ़ गई है। जिलों के निर्माण की तरफ मुख्यमंत्री की दिलचस्पी को न देखते हुए प्रदेश संगठन में काफी नाराजगी है। संगठन के लोगों ने मुख्यमंत्री को उस घोषणा पत्र की याद दिलाई जिसमें बेहतर शासन के लिए छोटी इकाईयां बनाने पर जोर दिया गया था।  

जनता का भरोसा उठ जाएगा

गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा कि पार्टी हमेशा छोटी इकाई बनाने के पक्ष में रही है। उन्होंने इसके लिए पुराने घोषणा पत्रों का भी हवाला दिया। रविवार को पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने बताया कि अगर सरकार अपने वादों पर खरा नहीं उतरेगी तो जनता का उसपर से भरोसा उठ जाएगा। ऐसे में राज्य में नए जिलों के निर्माण के लिए सरकार को जल्दी ही कदम उठाना चाहिए। 

सरकार और संगठन आमने-सामने


यहां आपको बता दें कि 19 दिसंबर को हुई घोषणा पत्र समिति की बैठक में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा था कि राज्य में चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में सरकार के पास समय कम है इस वजह से वह नए जिलों के निर्माण की घोषणा नहीं कर रही है। गौरतलब है कि राज्य सरकार की तरफ से मुसलमानों को नमाज की छुट्टी के ऐलान के बाद भी संगठन और सरकार के बीच तनाव बढ़ गया था।

इन जिलों की हो रही मांग

यहां आपको बता दें कि यमुनोत्री, कोटद्वार, रानीखेत और डीडीहाट को जिला बनाने की मांग लंबे समय से की जा रही है।

Todays Beets: