Wednesday, March 27, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

वैज्ञानिकों ने की नई अल्गोरिद्म विकसित, फेसबुक और ट्विटर के फर्जी यूजर्स का पता लगाना होगा आसान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वैज्ञानिकों ने की नई अल्गोरिद्म विकसित, फेसबुक और ट्विटर के फर्जी यूजर्स का पता लगाना होगा आसान

नई दिल्ली। इन दिनों सोशल मीडिया साइट फेसबुक के डाटा लीक होने की खबर के बाद वैज्ञानिकों ने इसे ज्यादा सुरक्षित बनाने के लिए गलत और फेक यूजर्स की पहचान करने के लिए एक अलग किस्म का अल्गोरिथम विकसित किया है जिससे फेसबुक और ट्विटर पर फर्जी यूजर का पता आसानी से लगा सकते हैं। वैज्ञानिकों ने बताया कि ऐसा देखा गया है कि फर्जी यूजर ज्यादातर अपने दोस्तों को अजीबोगरीब लिंक भेजते हैं। 

गौरतलब है कि इजरायल में हुए शोध में इस बात का खुलासा हुआ कि हाल के दिनों में फेसबुक पर डाटा का सुरक्षित न रहना वैज्ञानिकों की चिंताएं बढ़ा रहा है। इस्राइल की बेन-गुरियोन यूनिवर्सिटी के प्रमुख शोधकर्ता दीमा कगान ने कहा, ‘हाल के दिनों में यूजर की निजता को सुरक्षित रखने में नाकामयाबी की चिंताजनक खबरें और चुनावों को प्रभावित करने के लिए रूस द्वारा सोशल मीडिया के लमन~नस"; सउद्देश्य  इस्तेमाल की खबरों के बाद फेक यूजरों को हटाना बहुत जरूरी हो गया है।


ये भी पढ़ें - रिलायंस जियो टेलीकाॅम कंपनियों को दे सकती है एक और झटका, बाजार में लाएगी सिम वाला लैपटाॅप

कगान ने कहा, ‘हमने हमारे अल्गोरिद्म की जांच 10 अलग - अलग सोशल नेटवर्कों पर मौजूद नकली और वास्तविक डाटा संग्रहों पर की। इसने दोनों पर ही अच्छे से काम किया।’ यह अध्ययन सोशल नेटवर्क एनालिसिस एंड माइनिंग पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। 

Todays Beets: