Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

वैज्ञानिकों ने ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के बताए उपाय, ऊंचाई से नमक गिराने से मिलेगी राहत!

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वैज्ञानिकों ने ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के बताए उपाय, ऊंचाई से नमक गिराने से मिलेगी राहत!

नई दिल्ली। ग्लोबल वार्मिंग के असर को कम करने के लिए दुनिया भर में प्रयास किए जा रहे हैं। वैज्ञानिक इसमें अपने तरीके शोध कर उपाय बताने में लगे हैं। अब वैज्ञानिकों ने एक बहुत ही सस्ता उपाय बताया है। उनका कहना है कि अगर धरती पर 11 मील की ऊंचाई से नमक गिराया जाए तो धरती पर आने वाली पराबैंगनी किरणें नमक के कणों से टकराकर वापस लौट जाएंगी जिससे धरती का तापमान कम हो जाएगा। कुछ वैज्ञानिकों ने इस उपाय का स्वागत तो किया है लेकिन उनका कहना है कि अगर ऐसा होता है तो धरती एक समय के बाद पूरी तरह से ठंडी हो जाएगी और पूरी तरह से नष्ट हो जाएगी। 

यहां बता दें कि कुछ वैज्ञानिकों ने धरती पर आने वाली अल्ट्रावायलेट किरणों को रोकने के लिए आकाश में हीलियम गैस छोड़ने या फिर एक बड़ा शीशा लगाने की बात भी कह चुके हैं। टैक्सस के डॉ रॉबर्ट नेल्सन से यह विकल्प एक कॉफ्रेंस में सुझाया था। उनका कहना है कि ट्रोपोस्फीयर में नमक छिड़कने से वातारवण सफेद हो जाएगा इससे मौसम में कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा। इससे पहले उन्होंने एल्यूमीनियम ऑक्साइड और सल्फर डाइऑक्साइड का प्रयोग करने की सोची थी  लेकिन इससे फेफड़ों में दिक्कत हो सकती है और अम्ल वर्षा यानी एसिड रेन होनी की संभावना रहती है।

ये भी पढ़ें - जानिए एक ऐसी जगह के बारे में, जहां 70 साल की उम्र में भी जवां दिखती हैं महिलाएं


इस लेटेस्ट जियो इंजीनियरिंग प्लैन के कंसेप्ट की तुलना ज्वालामुखी के फूटने से कर सकते हैं। जैसे घरती के गर्म होने पर ज्वालामुखी फूटता है वैसे ही ये कंसेप्ट काम करेगा। वहीं कुछ वैज्ञानिकों का कहना है कि इस कृत्रिम तरीके से धरती को ठंडा तो ठीक है लेकिन इस प्रक्रिया का एकाएक रुकना धरती को नष्ट कर सकता है। 

 

Todays Beets: