Saturday, May 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

वैज्ञानिकों ने ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के बताए उपाय, ऊंचाई से नमक गिराने से मिलेगी राहत!

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वैज्ञानिकों ने ग्लोबल वार्मिंग से निपटने के बताए उपाय, ऊंचाई से नमक गिराने से मिलेगी राहत!

नई दिल्ली। ग्लोबल वार्मिंग के असर को कम करने के लिए दुनिया भर में प्रयास किए जा रहे हैं। वैज्ञानिक इसमें अपने तरीके शोध कर उपाय बताने में लगे हैं। अब वैज्ञानिकों ने एक बहुत ही सस्ता उपाय बताया है। उनका कहना है कि अगर धरती पर 11 मील की ऊंचाई से नमक गिराया जाए तो धरती पर आने वाली पराबैंगनी किरणें नमक के कणों से टकराकर वापस लौट जाएंगी जिससे धरती का तापमान कम हो जाएगा। कुछ वैज्ञानिकों ने इस उपाय का स्वागत तो किया है लेकिन उनका कहना है कि अगर ऐसा होता है तो धरती एक समय के बाद पूरी तरह से ठंडी हो जाएगी और पूरी तरह से नष्ट हो जाएगी। 

यहां बता दें कि कुछ वैज्ञानिकों ने धरती पर आने वाली अल्ट्रावायलेट किरणों को रोकने के लिए आकाश में हीलियम गैस छोड़ने या फिर एक बड़ा शीशा लगाने की बात भी कह चुके हैं। टैक्सस के डॉ रॉबर्ट नेल्सन से यह विकल्प एक कॉफ्रेंस में सुझाया था। उनका कहना है कि ट्रोपोस्फीयर में नमक छिड़कने से वातारवण सफेद हो जाएगा इससे मौसम में कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ेगा। इससे पहले उन्होंने एल्यूमीनियम ऑक्साइड और सल्फर डाइऑक्साइड का प्रयोग करने की सोची थी  लेकिन इससे फेफड़ों में दिक्कत हो सकती है और अम्ल वर्षा यानी एसिड रेन होनी की संभावना रहती है।

ये भी पढ़ें - जानिए एक ऐसी जगह के बारे में, जहां 70 साल की उम्र में भी जवां दिखती हैं महिलाएं


इस लेटेस्ट जियो इंजीनियरिंग प्लैन के कंसेप्ट की तुलना ज्वालामुखी के फूटने से कर सकते हैं। जैसे घरती के गर्म होने पर ज्वालामुखी फूटता है वैसे ही ये कंसेप्ट काम करेगा। वहीं कुछ वैज्ञानिकों का कहना है कि इस कृत्रिम तरीके से धरती को ठंडा तो ठीक है लेकिन इस प्रक्रिया का एकाएक रुकना धरती को नष्ट कर सकता है। 

 

Todays Beets: