Monday, December 10, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

परीक्षा से पहले ही यूपी बीटीसी-2015 के प्रश्न पत्र लीक, पूरी परीक्षा निरस्त

अंग्वाल न्यूज डेस्क
परीक्षा से पहले ही यूपी बीटीसी-2015 के प्रश्न पत्र लीक, पूरी परीक्षा निरस्त

लखनऊ। उत्तरप्रदेश में बेसिक ट्रेनिंग सर्टिफिकेट (बीटीसी)-2015 चौथे सेमेस्टर के प्रश्नपत्र परीक्षा शुरू होने से पहले लीक होने के बाद सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। अब 8 से 10 अक्तूबर के बीच होने वाली पूरी परीक्षा निरस्त कर दी गई है। सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने यह फैसला लिया है। अब इस परीक्षा के लिए नई तारीख का ऐलान बाद में किया जाएगा। बता दें कि पर्चा कौशाम्बी में आउट हुआ था। बता दें कि सोशल मीडिया पर वायरल हुए प्रश्न पत्र की जांच करने पर दोनों को समान पाया गया। इसके बाद ही परीक्षा को निरस्त करने का निर्णय लिया गया है। 

गौरतलब है कि बीटीसी-2015 चौथे सेमेस्टर के साथ बीटीसी-2013 सेवारत बैच (मृतक आश्रित), बीटीसी-2014 (अवशेष/अनुत्तीर्ण) की परीक्षा प्रदेश भर में 8 अक्तूबर से शुरू हुई। बता दें कि परीक्षा शुरू होने से पहले ही प्रश्नपत्र के सोशल मीडिया पर वायरल होने से परीक्षा के आयोजकों पर भी सवाल उठ रहे हैं। 


ये भी पढ़ें - यूपीएससी ने छात्रों को दी बड़ी राहत, अब नाम वापस ले सकेंगे अभ्यर्थी

यहां बता दें कि पूरे उत्तरप्रदेश में इस परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों की संख्या 72688 है। बीटीसी की दो पालियों में होने वाली परीक्षा से पहले ही सोशल मीडिया पर गणित, विज्ञान, सामाजिक अध्ययन, हिंदी, अंग्रेजी एवं शांति शिक्षा एवं सतत विकास के प्रश्नपत्र वायरल हो गए। हालांकि शिक्षा विभाग के अधिकारी प्रश्नपत्र के लीक होने की घटना से इंकार करते रहे। 

Todays Beets: