Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

परीक्षा से पहले ही यूपी बीटीसी-2015 के प्रश्न पत्र लीक, पूरी परीक्षा निरस्त

अंग्वाल न्यूज डेस्क
परीक्षा से पहले ही यूपी बीटीसी-2015 के प्रश्न पत्र लीक, पूरी परीक्षा निरस्त

लखनऊ। उत्तरप्रदेश में बेसिक ट्रेनिंग सर्टिफिकेट (बीटीसी)-2015 चौथे सेमेस्टर के प्रश्नपत्र परीक्षा शुरू होने से पहले लीक होने के बाद सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। अब 8 से 10 अक्तूबर के बीच होने वाली पूरी परीक्षा निरस्त कर दी गई है। सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने यह फैसला लिया है। अब इस परीक्षा के लिए नई तारीख का ऐलान बाद में किया जाएगा। बता दें कि पर्चा कौशाम्बी में आउट हुआ था। बता दें कि सोशल मीडिया पर वायरल हुए प्रश्न पत्र की जांच करने पर दोनों को समान पाया गया। इसके बाद ही परीक्षा को निरस्त करने का निर्णय लिया गया है। 

गौरतलब है कि बीटीसी-2015 चौथे सेमेस्टर के साथ बीटीसी-2013 सेवारत बैच (मृतक आश्रित), बीटीसी-2014 (अवशेष/अनुत्तीर्ण) की परीक्षा प्रदेश भर में 8 अक्तूबर से शुरू हुई। बता दें कि परीक्षा शुरू होने से पहले ही प्रश्नपत्र के सोशल मीडिया पर वायरल होने से परीक्षा के आयोजकों पर भी सवाल उठ रहे हैं। 


ये भी पढ़ें - यूपीएससी ने छात्रों को दी बड़ी राहत, अब नाम वापस ले सकेंगे अभ्यर्थी

यहां बता दें कि पूरे उत्तरप्रदेश में इस परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों की संख्या 72688 है। बीटीसी की दो पालियों में होने वाली परीक्षा से पहले ही सोशल मीडिया पर गणित, विज्ञान, सामाजिक अध्ययन, हिंदी, अंग्रेजी एवं शांति शिक्षा एवं सतत विकास के प्रश्नपत्र वायरल हो गए। हालांकि शिक्षा विभाग के अधिकारी प्रश्नपत्र के लीक होने की घटना से इंकार करते रहे। 

Todays Beets: