Tuesday, February 19, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

शिक्षक बनना चाहते हैं तो अब 12वीं में ही लेना होगा निर्णय, एनटीसीई का बड़ा निर्णय

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शिक्षक बनना चाहते हैं तो अब 12वीं में ही लेना होगा निर्णय, एनटीसीई का बड़ा निर्णय

नई दिल्ली। अध्यापन में रुचि रखने वाले छात्र इस खबर को जरा ध्यान से पढ़ लें। अब शिक्षक बनने के इच्छुक नौजवानों को अब 12वीं में ही इसका निर्णय लेना पड़ेगा। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) ने 4 वर्षीय पाठ्यक्रम की योजना लागू करने के लिए इसके लिए काॅलेजों से 3 से 31 दिसंबर तक आवेदन मांगे हैं। अब इस कोर्स को करने वाली ही प्राइमरी से लेकर माध्यमिक स्तर तक के स्कूलों में शिक्षक बन सकेंगे। बता दें कि अब तक शिक्षक बनने के लिए जेबीटी, टीईटी और सीटीईटी जैसी परीक्षाओं को पास करना होता था। 

गौरतलब है कि राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद की इस योजना के लागू होने के बाद पूरे देश में एक ही पाठ्यक्रम शुरू हो जाएगा और 12वीं के  बाद 4 साल का कोर्स करने वाले ही शिक्षक बनने के योग्य होंगे।  4 वर्षीय राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम (एनटीईपी) के पाठ्यक्रमों को मान्यता देने के लिए एनसीटीई ने कॉलेजों से 3 से 31 दिसम्बर तक आवेदन मांगे हैं। ये मान्यता अगले वर्ष शुरू होने वाले कोर्स के लिए है। 


ये भी पढ़ें - अब 25 साल से ज्यादा उम्र के छात्र भी दे सकेंगे नीट, सुप्रीम कोर्ट ने दी इजाजत

प्राइमरी और उच्च प्राइमरी से माध्यमिक तक के लिए अलग-अलग कोर्स चलाए जाएंगे। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) ने विज्ञान व कला वर्ग के लिए मान्यता देने के लिए आवेदन मांगे हैं। ये 2019 से 2023 तक के सत्र के लिए है। इसके लागू होने के बाद पूरे देश में एक ही तरह का पाठ्यक्रम होगा और कहीं कोई संदेह नहीं होगा। इसमें प्रवेश के लिए 50 फीसदी अंकों के साथ बारहवीं पास होना चाहिए।

Todays Beets: