Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

12वीं की किताब में महिलाओं के लिए 36-24-36 को बताया बेस्ट फीगर, सीबीएसई ने कन्नी काटी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
12वीं की किताब में महिलाओं के लिए 36-24-36 को बताया बेस्ट फीगर, सीबीएसई ने कन्नी काटी

नई दिल्ली । स्कूल कॉलेजों में स्लेबस में कुछ विवादित पाठ्यक्रम को रखने की खबरें यूं तो कई बार आती हैं लेकिन इस बार एक विवादित विषय को लेकर सोशल मीडिया में जमकर हंगामा हो रहा है। असल में 12वीं कक्षा की फिजिकल एजुकेशन (शारीरिक शिक्षा) की किताब में महिलाओं के लिए 36-24-36 को उनके शरीर का सबसे बेहतर आकार बताया गया है। इस मुद्दे को लेकर सोशल मीडिया में जमकर गुस्सा देखा जा रहा है। आलोचकों का कहना है कि फिजिकल एजुकेशन की किताब से इसे तत्काल प्रभाव से हटाया जाना चाहिए। बता दें कि दिल्ली स्थित न्यू सरस्वती हाउस प्रकाशन की हेल्थ एंड फिजिकल एजुकेशन शीर्षक वाली यह किताब सीबीएसई से संबद्ध कई स्कूलों में पढ़ाई जाती है। 

ये भी पढ़ें -अब 25 सालों से ज्यादा उम्र के छात्र भी दे सकेंगे ‘नीट’, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश

यूं तो बच्चों के पाठ्यक्रम और स्कूलों में पढ़ाए जाने वाली सामाग्री को लेकर अमूमन कई बार हंगामा होता रहा है, लेकिन इस बार सोशल मीडिया में इस किताब के कुछ अंश जमकर वायरल हो रहे हैं। इस किताब के अंश के अनुसार, महिलाओं के लिए 36-24-36 का आकार सबसे अच्छा माना जाता है। यही वजह है कि मिस व‌र्ल्ड या मिस यूनिवर्स प्रतियोगिताओं में इस तरह के शरीर के आकार का भी ध्यान रखा जाता है।

ये भी पढ़ें -अब प्रतिदिन तय होंगी पेट्रोल-डीजल की दरें, 1 मई से पायलट प्रोजक्ट के तौर पर 5 शहरों में शुरू ...


इस पूरे मामले पर सीबीएसई का कहना है कि हमने कभी अपने स्कूलों में निजी प्रकाशकों  की किसी भी किताब की अनुशंसा नही की है। स्कूलों से उम्मीद की जाती है कि वह निजी प्रकाशकों की किताब का अगर चयन कर रहे हैं तो जरा सोच समझ कर करें। किसी लेखक की किताब को स्लेबस का पार्ट बनाने से पहले इस किताब के पूरे कंटेंट को भी परख लें। तय कर लें कि इस किताब में कोई भी ऐसा अंश न हो जो आपत्तिजनक हो। 

ये भी पढ़ें -श्रीश्री रविशंकर की संस्था ने यमुना के डूबक्षेत्र को भारी नुकसान पहुंचाया, फिर लग सकता है जुर्माना

बहरहाल, इस पूरे मामले से गुस्साए लोगों का कहना है कि किताब से इस तरह के कंटेंट को हटाया जाए, ताकि इससे किसी की भावनाएं आहत न हों। 

ये भी पढ़ें -इलेक्शन कमीशन ने दिया नेताओं और पार्टियों को खुला चैलेंज-ईवीएम को हैक करके दिखाओ

Todays Beets: