Tuesday, March 26, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

घरेलू क्रिकेट खेलने की नसीहत पर धोनी ने इशारों में दिया जवाब, कहा- व्यक्तिगत पसंद की आलोचना नहीं होनी चाहिए

अंग्वाल न्यूज डेस्क
घरेलू क्रिकेट खेलने की नसीहत पर धोनी ने इशारों में दिया जवाब, कहा- व्यक्तिगत पसंद की आलोचना नहीं होनी चाहिए

नई दिल्ली। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने फाॅर्म वापस पाने के लिए घरेलू क्रिकेट खेलने की नसीहत पर अपनी चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने कहा कि लोगों को व्यक्तिगत पसंद की आलोचना करने से बचना चाहिए। धोनी ने कहा कि इस साल कई अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों ने रणजी ट्राॅफी नहीं खेलने का फैसला लिया है। युजवेंद्र चहल और शिखर धवन ने इस साल रणजी ट्रॉफी नहीं खेलने का फैसला किया जबकि टीम इंडिया के लिए सिर्फ एक प्रारूप खेलने वाले अंबाती रायुडू ने प्रथम-श्रेणी क्रिकेट से संन्यास ही ले लिया।

गौरतलब है कि पिछले दिनांे एमएस धोनी के फाॅर्म को लेकर सवाल उठे थे। पूर्व क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने उन्हें और शिखर धवन को घरेलू क्रिकेट खेलने की सलाह दी थी। गावस्कर ने तो बीसीसीआई से भी पूछा था कि धोनी और धवन को घरेलू क्रिकेट खेलने की इजाजत क्यों नहीं दी।

ये भी पढ़ें- दूरदर्शन के वरिष्ठ अधिकारियों पर लगा यौन उत्पीड़न का आरोप, 3 महिला कर्मचारी आई सामने


यहां बता दें कि धोनी ने 2014 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। आपको बता दें कि उन्होंने व्यक्तिगत पसंद की आलोचना से बचने की बात कहकर इशारों-इशारों में सुनील गावस्कर को जवाब दिया है। धोनी ने कहा, ‘‘खिलाड़ियों को सुरक्षित रखना जरूरी है। हमें घरेलू सर्किट थोड़ा कम चुनौतीपूर्ण बनाना चाहिए। इसके अलावा टी20 क्रिकेट और व्यक्तिगत पसंद की भी अधिक आलोचना नहीं की जानी चाहिए।’’

 

Todays Beets: