Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

घरेलू क्रिकेट खेलने की नसीहत पर धोनी ने इशारों में दिया जवाब, कहा- व्यक्तिगत पसंद की आलोचना नहीं होनी चाहिए

अंग्वाल न्यूज डेस्क
घरेलू क्रिकेट खेलने की नसीहत पर धोनी ने इशारों में दिया जवाब, कहा- व्यक्तिगत पसंद की आलोचना नहीं होनी चाहिए

नई दिल्ली। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने फाॅर्म वापस पाने के लिए घरेलू क्रिकेट खेलने की नसीहत पर अपनी चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने कहा कि लोगों को व्यक्तिगत पसंद की आलोचना करने से बचना चाहिए। धोनी ने कहा कि इस साल कई अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों ने रणजी ट्राॅफी नहीं खेलने का फैसला लिया है। युजवेंद्र चहल और शिखर धवन ने इस साल रणजी ट्रॉफी नहीं खेलने का फैसला किया जबकि टीम इंडिया के लिए सिर्फ एक प्रारूप खेलने वाले अंबाती रायुडू ने प्रथम-श्रेणी क्रिकेट से संन्यास ही ले लिया।

गौरतलब है कि पिछले दिनांे एमएस धोनी के फाॅर्म को लेकर सवाल उठे थे। पूर्व क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने उन्हें और शिखर धवन को घरेलू क्रिकेट खेलने की सलाह दी थी। गावस्कर ने तो बीसीसीआई से भी पूछा था कि धोनी और धवन को घरेलू क्रिकेट खेलने की इजाजत क्यों नहीं दी।

ये भी पढ़ें- दूरदर्शन के वरिष्ठ अधिकारियों पर लगा यौन उत्पीड़न का आरोप, 3 महिला कर्मचारी आई सामने


यहां बता दें कि धोनी ने 2014 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। आपको बता दें कि उन्होंने व्यक्तिगत पसंद की आलोचना से बचने की बात कहकर इशारों-इशारों में सुनील गावस्कर को जवाब दिया है। धोनी ने कहा, ‘‘खिलाड़ियों को सुरक्षित रखना जरूरी है। हमें घरेलू सर्किट थोड़ा कम चुनौतीपूर्ण बनाना चाहिए। इसके अलावा टी20 क्रिकेट और व्यक्तिगत पसंद की भी अधिक आलोचना नहीं की जानी चाहिए।’’

 

Todays Beets: