Thursday, September 20, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

अब मोबाइल चोरी होने पर घबराएं नहीं, इस नंबर पर करें शिकायत, कोई नहीं कर पाएगा इस्तेमाल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब मोबाइल चोरी होने पर घबराएं नहीं, इस नंबर पर करें शिकायत, कोई नहीं कर पाएगा इस्तेमाल

नई दिल्ली। बसों और ट्रेनों में मोबाइल चोरी होने की खबरें आजकल आम हो गई हैं। मोबाइल के चोरी होने पर अफसोस तो होता ही है उसके बाद पुलिस से शिकायत करने पर भी शायद ही उसका मिलना मुमकिन हो पाता है। अब अगर ऐसा होता है तो घबराने की जरूरत नहीं है। सरकार ने एक हेल्पलाइन नंबर 14422 जारी किया है। इससे पूरे देश में लोगों को अब शिकायत दर्ज कराने के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। इस नंबर पर डायल करने या संदेश भेजने पर शिकायत दर्ज हो जाएगी और पुलिस व सेवा प्रदाता कंपनी मोबाइल की खोज में जुट जाएगी। दूरसंचार मंत्रालय मई के अंत में महाराष्ट्र सर्किल में इसकी शुरुआत करेगा। 

गौरतलब है कि देश के 21 अन्य दूरसंचार सर्कल में कई चरणों में इसे दिसंबर तक लागू किया जाएगा। बता दें कि दूरसंचार प्रौद्योगिकी केंद्र (सी-डॉट) ने चोरी या गुम मोबाइल का पता लगाने के लिए सेंट्रल इक्विपमेंट आईडेंटिटी रजिस्टर (सीईआईआर) तैयार कर लिया है। सीईआईआर में देश के हर नागरिक का मोबाइल मॉडल, सिम नंबर और आईएमईआई नंबर है। मोबाइल मॉडल पर निर्माता कंपनी द्वारा जारी आईएमईआई नंबर के मिलान का तंत्र सी-डॉट ने ही विकसित किया है। इस तंत्र को चरणबद्ध तरीके से राज्यों की पुलिस को सौंपा जाएगा। मोबाइल के खोने पर शिकायत दर्ज होते ही पुलिस और सेवा प्रदाता मोबाइल मॉडल और आईएमईआई का मिलान करेंगी। अगर आईएमईआई नंबर बदला जा चुका होगा, तो सेवा प्रदाता उसे बंद कर देंगी, हालांकि सेवा बंद होने पर भी पुलिस मोबाइल ट्रैक कर सकेगी। 


ये भी पढ़ें - बेहतर फोटो के लिए सिर्फ मेगापिक्सल ही नहीं जिम्मेदार, इन टेक्नोलाॅजी का होना जरूरी 

बता दें कि सी-डाॅट के अनुसार शिकायत मिलने के बाद चोरी हुए मोबाइल फोन में कोई भी सिम लगाने पर नेटवर्क नहीं आएगा लेकिन उसकी ट्रैकिंग की जा सकेगी। मोबाइल चोरी की बढ़ती घटनाओं के मद्देनजर दूरसंचार मंत्रालय ने सीडाॅट को ऐसी सुविधा विकसित करने के लिए कहा था जिसके जरिए मोबाइल का पता लगाया जा सकेगा।  आईएमईआई बदलने पर 3 साल की सजा और जुर्माने का प्रावधान है। पिछले साल दूरसंचार मंत्रालय ने मोबाइल चोरी, झपटमारी और गुम होने की बढ़ती शिकायतों के मद्देनजर टेलीग्राफ एक्ट में संशोधन किया था। इसके तहत आईएमईआई से छेड़छाड़ करने वालों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।

Todays Beets: