Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

एक होंगे अइडिया और वोडाफोन, देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बनेंगे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एक  होंगे अइडिया और वोडाफोन,  देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बनेंगे

नई दिल्ली।  नई कंपनी रिलायंस जियो के आने के बाद टेलीकॉम बाजार आकर्षक पैकेज देकर ग्राहकों को तोड़ने-जोड़ने की जबरदस्त प्रतिस्पर्धा के दौर से गुजर रहा है। ऐसे में आइडिया सेल्यूलर और वोडाफोन इंडिया एक दूसरे से मिलने जा रहे हैं। टेलिकॉम इंडस्ट्री मंगलवार को इस बड़े विलय को मंजूरी देने जा रही है। DOT दोनों कंपनियों के प्रमुख को सर्टिफिकेट दे सकता है। दोनों से मिलने वाली कंपनी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी होगी। ग्रहकों की सख्या के हिसाब से भी यह देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी होगी।

ये भी पढ़े-बिहार बोर्ड में फिर गड़बड़झला, गायब हुईं 42 हजार कॉपियां, रिजल्ट से पहले वेरिफिकेशन के लिए बुलाए टॉपर

दोनों कंपनियों के मिलने से नई कंपनी की संयुक्त कमाई 23 अरब डॉलर होगी जिसका 35 फीसदी मार्केट पर कब्जा होगा। नई कंपनी के पास करीब 43 करोड़ ग्राहक होंगे। विलय के बाद इस बढ़ी हुई ताकत से दोनों कंपनियों को बाजार प्रतिस्पर्धा से निपटने में काफी मदद मिलने की उम्मीद है।इस मिलाप के बाद वोडाफोन के पास  नई कंपनी में 45.1 फीसदी हिस्सेदारी होगी। आदित्य बिड़ला ग्रुप के पास 26 फीसदी और आइडिया के शेयरधारकों के पास 28.9 फीसदी हिस्सेदारी होगी। विलय में जा रही इन दोनों टेलीकॉम कंपनियों पर इस समय कर्ज का संयुक्त बोझ 1.15 लाख करोड़ रुपए के लगभग बताया जा रहा है। 


ये भी पढ़े-ठाकरे का पीएम मोदी पर हमला, बोले- विदेश घूमने वाले पीएम को पूरे देश में उड़ रही धूल नहीं दिखती

बता दें कि कुमार मंगलम बिड़ला नई कंपनी के गैर कार्यकारी चेयरमैन होंगे और वोडाफोन इंडिया के मौजूदा सीओओ बालेश शर्मा को कंपनी का सीईओ बनाया गया है. आइडिया के चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर अक्षय मुंद्रा नई कंपनी में भी CFO के तौर पर नियुक्त होंगे।

कंपनी का नाम  बदलने पर आइडिया और वोडाफोन के यूजर्स नई कंपनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड के ग्राहक बन जाएंगे. नई कंपनी के ऑफर्स और नए प्लान का फायदा उन्हें मिलेगा।

 

Todays Beets: