Saturday, September 23, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

आयुर्वेदिक दवा के सैंपल जांच में हुए फेल, दवा सप्लाई करने वाली कंपनी पर होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आयुर्वेदिक दवा के सैंपल जांच में हुए फेल, दवा सप्लाई करने वाली कंपनी पर होगी कार्रवाई

देहरादून। आयुर्वेदिक दवाओं के सैम्पल टेस्ट में फेल होने के बाद अब कार्रवाई तेज कर दी गई है। घटिया दवाई की आपूर्ति के मामले में सचिव आयुष ने सप्लाई करने वाली कंपनियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। आयुर्वेद निदेशक को इस मामले में जांच कर जल्द रिपोर्ट देने को कहा गया है। दोषी पाए जाने पर सप्लाई करने वाली कंपनियों को ब्लैक लिस्ट किया जाएगा। 

दवाई की बिक्री पर रोक

गौरतलब है कि आयुर्वेद विभाग द्वारा किडनी रोगियों के लिए श्वेत पार्पटी, गोखुरादि गुगुलु और त्वचा रोग के लिए खदिरारिष्ट की खरीद की गई थी लेकिन जनवरी और फरवरी में तैयार की गई इन दवाइयों के सैंपल खरीद के बाद फेल पाए गए। हालांकि सैंपल के जांच में फेल होने के बाद विभाग ने दवाई की बिक्री पर रोक लगा दी है।

ये भी पढ़ें - जल्द ही बिल्कुल नए स्वरूप में दिखेगा केदारनाथ धाम, पुनर्निर्माण कार्य को तेज करने के निर्देश


दवा कंपनियों पर होगी कार्रवाई

ऐसा बताया जा रहा है कि बिना सैंपलिंग की दवाओं से मरीजों की जिन्दगी के साथ खिलवाड़ किया गया। दवाइयों की मैन्युफैक्चरिंग की तारीख जनवरी और फरवरी के महीने की थी लेकिन सैंपल रिपोर्ट सितम्बर में आई। इस दौरान दवाओं की सप्लाई जारी रही। इस संबंध में आयुर्वेद विशेषज्ञों का कहना है कि किडनी की बीमारी में घटिया दवाई मरीजों के लिए जानलेवा साबित हो सकती है। हालांकि आयुष सचिव हरबंस चुग ने कहा कि आयुर्वेद निदेशक को सैंपल फेल दवाइयों की जांच के लिए के निर्देश दिए गए हैं। जांच रिपोर्ट में दवा कंपनियों के दोषी पाए जाने पर उन्हें ब्लैक लिस्टेड किया जाएगा।

 

Todays Beets: