Monday, November 20, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

आयुर्वेदिक दवा के सैंपल जांच में हुए फेल, दवा सप्लाई करने वाली कंपनी पर होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आयुर्वेदिक दवा के सैंपल जांच में हुए फेल, दवा सप्लाई करने वाली कंपनी पर होगी कार्रवाई

देहरादून। आयुर्वेदिक दवाओं के सैम्पल टेस्ट में फेल होने के बाद अब कार्रवाई तेज कर दी गई है। घटिया दवाई की आपूर्ति के मामले में सचिव आयुष ने सप्लाई करने वाली कंपनियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। आयुर्वेद निदेशक को इस मामले में जांच कर जल्द रिपोर्ट देने को कहा गया है। दोषी पाए जाने पर सप्लाई करने वाली कंपनियों को ब्लैक लिस्ट किया जाएगा। 

दवाई की बिक्री पर रोक

गौरतलब है कि आयुर्वेद विभाग द्वारा किडनी रोगियों के लिए श्वेत पार्पटी, गोखुरादि गुगुलु और त्वचा रोग के लिए खदिरारिष्ट की खरीद की गई थी लेकिन जनवरी और फरवरी में तैयार की गई इन दवाइयों के सैंपल खरीद के बाद फेल पाए गए। हालांकि सैंपल के जांच में फेल होने के बाद विभाग ने दवाई की बिक्री पर रोक लगा दी है।

ये भी पढ़ें - जल्द ही बिल्कुल नए स्वरूप में दिखेगा केदारनाथ धाम, पुनर्निर्माण कार्य को तेज करने के निर्देश


दवा कंपनियों पर होगी कार्रवाई

ऐसा बताया जा रहा है कि बिना सैंपलिंग की दवाओं से मरीजों की जिन्दगी के साथ खिलवाड़ किया गया। दवाइयों की मैन्युफैक्चरिंग की तारीख जनवरी और फरवरी के महीने की थी लेकिन सैंपल रिपोर्ट सितम्बर में आई। इस दौरान दवाओं की सप्लाई जारी रही। इस संबंध में आयुर्वेद विशेषज्ञों का कहना है कि किडनी की बीमारी में घटिया दवाई मरीजों के लिए जानलेवा साबित हो सकती है। हालांकि आयुष सचिव हरबंस चुग ने कहा कि आयुर्वेद निदेशक को सैंपल फेल दवाइयों की जांच के लिए के निर्देश दिए गए हैं। जांच रिपोर्ट में दवा कंपनियों के दोषी पाए जाने पर उन्हें ब्लैक लिस्टेड किया जाएगा।

 

Todays Beets: