Tuesday, July 17, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

आयुर्वेदिक दवा के सैंपल जांच में हुए फेल, दवा सप्लाई करने वाली कंपनी पर होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आयुर्वेदिक दवा के सैंपल जांच में हुए फेल, दवा सप्लाई करने वाली कंपनी पर होगी कार्रवाई

देहरादून। आयुर्वेदिक दवाओं के सैम्पल टेस्ट में फेल होने के बाद अब कार्रवाई तेज कर दी गई है। घटिया दवाई की आपूर्ति के मामले में सचिव आयुष ने सप्लाई करने वाली कंपनियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। आयुर्वेद निदेशक को इस मामले में जांच कर जल्द रिपोर्ट देने को कहा गया है। दोषी पाए जाने पर सप्लाई करने वाली कंपनियों को ब्लैक लिस्ट किया जाएगा। 

दवाई की बिक्री पर रोक

गौरतलब है कि आयुर्वेद विभाग द्वारा किडनी रोगियों के लिए श्वेत पार्पटी, गोखुरादि गुगुलु और त्वचा रोग के लिए खदिरारिष्ट की खरीद की गई थी लेकिन जनवरी और फरवरी में तैयार की गई इन दवाइयों के सैंपल खरीद के बाद फेल पाए गए। हालांकि सैंपल के जांच में फेल होने के बाद विभाग ने दवाई की बिक्री पर रोक लगा दी है।

ये भी पढ़ें - जल्द ही बिल्कुल नए स्वरूप में दिखेगा केदारनाथ धाम, पुनर्निर्माण कार्य को तेज करने के निर्देश


दवा कंपनियों पर होगी कार्रवाई

ऐसा बताया जा रहा है कि बिना सैंपलिंग की दवाओं से मरीजों की जिन्दगी के साथ खिलवाड़ किया गया। दवाइयों की मैन्युफैक्चरिंग की तारीख जनवरी और फरवरी के महीने की थी लेकिन सैंपल रिपोर्ट सितम्बर में आई। इस दौरान दवाओं की सप्लाई जारी रही। इस संबंध में आयुर्वेद विशेषज्ञों का कहना है कि किडनी की बीमारी में घटिया दवाई मरीजों के लिए जानलेवा साबित हो सकती है। हालांकि आयुष सचिव हरबंस चुग ने कहा कि आयुर्वेद निदेशक को सैंपल फेल दवाइयों की जांच के लिए के निर्देश दिए गए हैं। जांच रिपोर्ट में दवा कंपनियों के दोषी पाए जाने पर उन्हें ब्लैक लिस्टेड किया जाएगा।

 

Todays Beets: