Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

शिक्षक भर्ती फर्जीवाड़े में लिप्त अधिकारियों पर एसआईटी ने कसा शिकंजा, जल्द होगी विभागीय कार्रवाई 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शिक्षक भर्ती फर्जीवाड़े में लिप्त अधिकारियों पर एसआईटी ने कसा शिकंजा, जल्द होगी विभागीय कार्रवाई 

देहरादून। राज्य में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी देने के मामले में लिप्त अधिकारियों पर एसआईटी ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। ऐसे शिक्षकों और अफसरों को सूचीबद्ध करते हुए एसआईटी शासन को गोपनीय सूचना भेजने की तैयारी में जुट गई है। इसमें जिले से लेकर निदेशालय तक के अफसर शिकंजे में आ रहे हैं ताकि इनकी जिम्मेदारी तय किया जा सके। बता दें कि एसआईटी को फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी वालों के खिलाफ 150 से ज्यादा शिकायतें मिली थी।

रिपोर्ट दबा दी गई

गौरतलब है कि उत्तराखंड में बड़े पैमाने पर फर्जी दस्तावेजों के आधार शिक्षकों को नौकरी दी गई थी। एसआईटी को मिले सैंकड़ों शिकायती पत्रों के आधार पर हुई जांच में हरिद्वार, देहरादून, ऊधमसिंहनगर और नैनीताल के करीब 30 से ज्यादा शिक्षकों के खिलाफ मुकदमे की संस्तुति दी गई लेकिन शिक्षा निदेशालय ने दून के 4 एवं हरिद्वार के 9 शिक्षकों को छोड़कर बाकियों की रिपोर्ट मुख्य और जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में ही दबा दी। 

ये भी पढ़ें - हल्द्वानी के आर्यन जुयाल न्यूजीलैंड में दिखाएंगे अपना जलवा, अंडर -19 क्रिकेट वर्ल्ड कप के लिए...


मिलीभगत करने वाले होंगे बेनकाब

आपको बता दें कि फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी देने के मामले में लिप्त अधिकारी कुछ भी बोलने से बच रहे हैं। अब एसआईटी ऐसे मामलों पर गंभीरता से काम करना शुरू कर दिया है। एसआईटी ने ऐसे अफसरों की पहचान कर उनके खिलाफ गोपनीय कार्रवाई शुरू कर दी है। इसमें शिक्षकों के प्रमाण पत्र न देने, प्रमाण पत्र रखने के लिए जिम्मेदार, नियुक्ति अधिकारी और कमेटी में शामिल अफसरों को भी शामिल किया जा रहा है। बता दें कि इन अधिकारियों के खिलाफ एसआईटी ने काफी जानकारियां जुटा ली हैं और इसे जल्द ही शासन को भेजने की तैयारी कर रहीं हैं ताकि शिक्षकों की नौकरी के इस फर्जीवाड़े में मिलीभगत करने वाले जिम्मेदार अफसर भी बेनकाब हो सकें। 

Todays Beets: