Wednesday, August 15, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

टिहरी झील में 4 करोड़ की ‘फ्लोटिंग बोट’ पर शुरू हुई उत्तराखंड कैबिनेट की बैठक, कई परियोजनाओं को मंजूरी मिलने की उम्मीद 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टिहरी झील में 4 करोड़ की ‘फ्लोटिंग बोट’ पर शुरू हुई उत्तराखंड कैबिनेट की बैठक, कई परियोजनाओं को मंजूरी मिलने की उम्मीद 

टिहरी। उत्तराखंड सरकार की बैठक पहली बार पानी पर हो रही है। जी हां टिहरी झील में करीब 4 करोड़ रुपये वाली मरीना बोट को पूरी तरह से सजाया गया है। बैठक के लिए बुधवार को मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत सुबह ही पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज के साथ हैलीकाॅप्टर से टिहरी पहुंच गए थे। बता दें कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने टिहरी को उत्तराखंड का भविष्य बताया है। उन्होंने कहा कि टिहरी को अंतरराष्ट्रीय पहचान दिलाने के लिए कई योजनाएं भी चलाई जा रही हैं। सीएम ने टिहरी महोत्सव के बारे मंे भी चर्चा की है। 

गौरतलब है कि यह पहली बार ऐसा हो रहा है कि कैबिनेट की बैठक राजधानी से बाहर हो रही है। उत्तराखंड सरकार का मानना है कि दुनिया के सबसे बड़े बांधों में शामिल टिहरी डैम की 42 वर्ग किमी में फैली विशाल टिहरी झील, पर्यटन विकास की असीम संभावनाओं को संजोए हुए हैं। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों ने यहां पर्यटन विकास के लिए करोड़ों रुपये अवस्थापना विकास पर खर्च भी किए हैं। झील में बार्ज बोट, फ्लोटिंग मरीना, इको हट्स से लेकर झील किनारे आलीशान होटल भी बनकर तैयार है लेकिन पर्यटकों के अभाव में पर्यटन गतिविधियां ठप होने से सभी संसाधन बेकार पड़े हुए हैं। टिहरी झील का विकास होने से हजारों लोगों को रोजगार मिलेगा।

ये भी पढ़ें - पकौड़ी विक्रेता को शराबियों को मना करना पड़ा भारी, खौलते तेल की कड़ाही में फेंका


यहां बता दें कि प्रदेश की पूर्ववर्ती सरकारों ने भी टिहरी झील में पर्यटन को बढ़ाने के मकसद से कैबिनेट बैठक आयोजित कराने की कोशिशें की थी लेकिन राजनीति के चलते ये कोशिशें आगे नहीं बढ़ पाई। वर्तमान सरकार टिहरी बांध झील में पर्यटन को बढ़ावा देने के मकसद से कैबिनेट बैठक करने जा रही है। इससे पर्यटक और पर्यटन विकास की राह देख रही टिहरी झील में पर्यटन गतिविधियों को नया आयाम मिलने की उम्मीद जगी है। 

Todays Beets: