Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

राज्य में बुनियादी शिक्षा सुधार की कोशिशों को बड़ा झटका, शिशु गृह में पढ़ने वाले 5वीं के बच्चे पहली कक्षा के सवाल का जवाब नहीं पता

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज्य में बुनियादी शिक्षा सुधार की कोशिशों को बड़ा झटका, शिशु गृह में पढ़ने वाले 5वीं के बच्चे पहली कक्षा के सवाल का जवाब नहीं पता

देहरादून। राज्य सरकार द्वारा बुनियादी शिक्षा को बेहतर करने के लिए कई कोशिशें की जा रहीं हैं। राज्य के शिशु गृह में बच्चों की शिक्षा पर लाखों रुपये खर्च किए जा रहे हैं लेकिन उसका उपयोग ठीक ढंग से नहीं हो रहा है। राज्य में चलने वाले शिशु गृहों में साफ-सफाई तक का इंतजाम नहीं है। शिक्षा का आलम यह है कि 5वीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्र पहली के सवाल भी हल नहीं कर पा रहे हैं। यह खुलासा समाज कल्याण मंत्री यशपाल आर्य के निरीक्षण में सामने आई है। शिशु गृह की हालत पर मंत्री ने कर्मचारियों को जमकर फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि इनपर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

बुनियादी सुविधा पर भड़के मंत्री

गौरतलब है कि बच्चों की पढ़ाई की स्थिति पर जब मंत्री ने वहां पढ़ाने वाली शिक्षिका के बारे में पूछा तो पता चला कि यहां शिक्षिका है ही नहीं। बच्चों के खेलने के लिए बनाए गए पार्क देखकर मंत्री जी का गुस्सा सातवें आसमान पर जा पहुंचा। पार्क में बड़ी-बड़ी घास एवं झाड़ियां उग आई हैं। मंत्री जी ने स्टॉफ को जमकर फटकारा और तुरंत पार्क की हालत सुधारने के निर्देश दिए।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में कर्मचारियों की हो गई बल्ले-बल्ले, 1 जुलाई से मिलेगा बढ़ा हुआ महंगाई भत्ता


दोषियों पर होगी कार्रवाई

बता दें कि शिशु गृह के बाद यशपाल आर्य बालिका निकेतन पहंचे तो वहां भी व्यवस्था इसी तरह से मिली। वहां बालिकाओं की पढ़ाई के लिए न तो लाइब्रेरी है और न ही उसमें किताबें ही मौजूद हैं। समाज कल्याण मंत्री ने सरकार द्वारा खर्च किए जा रहे लाखों के बजट का हवाला देते हुए कहा कि दोषी कर्मचारियों को हटाने से मामले में सुधार नहीं आएगा। इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

 

Todays Beets: