Friday, December 15, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

दून में महिला सुरक्षा पर बड़ा सवाल, पीड़िता के ट्वीट पर मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दून में महिला सुरक्षा पर बड़ा सवाल, पीड़िता के ट्वीट पर मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश

देहरादून। देहरादून में महिला सुरक्षा के दावे करने की पोल खुल गई है। एक शिक्षिका की जागरूकता से बड़ी अनहोनी टल गई लेकिन यह घटना महिला सुरक्षा पर सवाल खडे़ कर गई। पीड़ित महिला ने ट्वीट कर पूरी जानकारी मुख्यमंत्री को दी, सीएम ने इस पर संज्ञान लेेते हुए फौरन जांच के आदेश दिए हैं। बता दें कि मामला दून में सिटी बस में सवार एक महिला शिक्षिका ने मुख्यमंत्री से शिकायत की कि चालक ने बदनीयती से उन्हें बल्लूपुर चौक पर उतारने के बजाए बस दौड़ा दी। उसके चिल्लाने पर भी बस नहीं रुकी तो शिक्षिका ने पुलिस से मोबाइल पर बात होने का डर दिखाकर बस को रुकवाया। 

महिला सुरक्षा का मामला

गौरतलब है कि यह मामला 3 दिसंबर का है जब पीड़ित महिला शिक्षिका प्रेमनगर से बल्लूपुर चौक के लिए सिटी बस में सवार हुई थीं। कंडक्टर को किराया देकर अपने स्टॉप की जानकारी दी थी। उस समय बस में 10 के करीब यात्री सवार थे, जिनमें से कई वसंत विहार के पास उतर गए। वह बल्लूपुर में उतरने के लिए पहले ही सीट से खड़ी हो गई थीं। महिला ने आरोप लगाया कि चालक बस को नीचे ले जाने के बजाए फ्लाई ओवर के ऊपर से तेज रफ्तार में ले गया। कंडक्टर से बस रुकवाने को कहा तो वह भी चुप्पी साधे खड़ा रहा। जब वह बस रुकवाने के लिए चिल्लाईं, तो चालक ने बस की रफ्तार और तेज कर दी। पहले तो डराने के मकसद से उसने कहा कि वह अपने पापा को फोन कर रही है इसके बाद उसने पुलिस को फोन किया लेकिन फोन नहीं लगा। इसके बाद उसने अपनी समझदारी का परिचय देते हुए फोन पर पुलिस को बस की लोकेशन बताने जैसी बातें करने लगी इसके बाद कंडक्टर ने बस को रुकवाया।

ये भी पढ़ें -सीबीएसई से संबद्ध स्कूलों के लिए एनसीईआरटी की किताबें लागू करना होगा अनिवार्य, आनाकानी करने व...

सीएम ने दिए जांच के आदेश


यहां बता दें कि पीड़िता ने ट्वीट कर अपनी पीड़ा सीएम से साझा की तो सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उन्हें सुरक्षा का भरोसा दिला एसएसपी को कार्रवाई के निर्देश दिए। पुलिस आरोपी चालक और परिचालक की तलाश में जुट गई है।

मुख्यमंत्री ने दिया जवाब

अपने ट्वीट में मुख्यमंत्री ने लिखा कि मैंने यह पूरा घटनाक्रम दो बच्चियों के पिता होने के भाव से पढ़ा है। मैं वैसा ही महसूस कर रहा हूं जैसा कि तुम्हारे पिता करते। मुख्यमंत्री होने के नाते मैं तुम्हें भरोसा दिलाता हूं कि किसी प्रकार की चिंता मत करो। मैंने एसएसपी देहरादून को यह मामला सौंप दिया है।

 

Todays Beets: