Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना का पूरा खर्च उठाएगी सरकार, बीमा कंपनी पर भी होगी कड़ी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना का पूरा खर्च उठाएगी सरकार, बीमा कंपनी पर भी होगी कड़ी कार्रवाई

देहरादून। बीमा कंपनी द्वारा उत्तराखंड में मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना बंद होने के बाद सरकार ने लोगों को राहत दी है। सरकार ने गरीब मरीजों को मुफ्त इलाज जारी रखने के साथ उनका पूरा खर्चा उठाने के आदेश दिए हैं। इस योजना के तहत  मरीजों को इलाज न देने वाले अस्पतालों के खिलाफ सरकार कार्रवाई भी करेगी। सीएम ने कहा है कि एमएसबीवाई को बंद करने वाली कंपनी पर भी कार्रवाई की जाएगी।

कड़ी कार्रवाई की मांग

गौरतलब है कि स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराने वाली कंपनी बजाज एलायंस ने विस्तारीकरण नहीं मिलने की वजह से सेवा बंद करने की बात कही थी। सीएम ने कहा कि बीमा कंपनी का करार नवम्बर तक बढ़ाया गया है लेकिन कंपनी ने बीच में ही अचानक इलाज बंद कर दिया है। सुविधा बंद होने से मरीजों को भारी असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है। अब सरकार ने बीमा कंपनी पर भी कड़ी कार्रवाई करने का मन बना चुकी है। 

 ये भी पढ़ें - सातवां वेतनमान बिजली कर्मचारियों के लिए बनी मुसीबत, कम वेतन मिलने की शिकायत


आपसी लड़ाई में पिस रहे मरीज

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने साफ तौर पर कहा है कि योजना बंद होने के लिए जिम्मेदार अधिकारियों को बख्शा नहीं जाएगा। बीमा कंपनी का करार बढ़ाने की फाइल और नई कंपनी के चयन की प्रक्रिया में देरी क्यों हुई इसकी जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। ऐसा बताया जा रहा है कि एमएसबीवाई के बंद होने के पीछे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की आपसी लड़ाई है। अफसरों का एक गुट मौजूदा कंपनी के करार को बढ़ाने की बात कर रहे हैं वहीं दूसरा गुट नई कंपनी को लाने पर अड़ा हुआ है। दोनों गुटों की लड़ाई की वजह से समय पर प्रस्ताव नहीं भेजा गया और न ही बजाज एलायंस को विस्तारीकरण ही मिल पाया।

Todays Beets: