Monday, July 23, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना का पूरा खर्च उठाएगी सरकार, बीमा कंपनी पर भी होगी कड़ी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना का पूरा खर्च उठाएगी सरकार, बीमा कंपनी पर भी होगी कड़ी कार्रवाई

देहरादून। बीमा कंपनी द्वारा उत्तराखंड में मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना बंद होने के बाद सरकार ने लोगों को राहत दी है। सरकार ने गरीब मरीजों को मुफ्त इलाज जारी रखने के साथ उनका पूरा खर्चा उठाने के आदेश दिए हैं। इस योजना के तहत  मरीजों को इलाज न देने वाले अस्पतालों के खिलाफ सरकार कार्रवाई भी करेगी। सीएम ने कहा है कि एमएसबीवाई को बंद करने वाली कंपनी पर भी कार्रवाई की जाएगी।

कड़ी कार्रवाई की मांग

गौरतलब है कि स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराने वाली कंपनी बजाज एलायंस ने विस्तारीकरण नहीं मिलने की वजह से सेवा बंद करने की बात कही थी। सीएम ने कहा कि बीमा कंपनी का करार नवम्बर तक बढ़ाया गया है लेकिन कंपनी ने बीच में ही अचानक इलाज बंद कर दिया है। सुविधा बंद होने से मरीजों को भारी असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है। अब सरकार ने बीमा कंपनी पर भी कड़ी कार्रवाई करने का मन बना चुकी है। 

 ये भी पढ़ें - सातवां वेतनमान बिजली कर्मचारियों के लिए बनी मुसीबत, कम वेतन मिलने की शिकायत


आपसी लड़ाई में पिस रहे मरीज

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत ने साफ तौर पर कहा है कि योजना बंद होने के लिए जिम्मेदार अधिकारियों को बख्शा नहीं जाएगा। बीमा कंपनी का करार बढ़ाने की फाइल और नई कंपनी के चयन की प्रक्रिया में देरी क्यों हुई इसकी जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। ऐसा बताया जा रहा है कि एमएसबीवाई के बंद होने के पीछे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की आपसी लड़ाई है। अफसरों का एक गुट मौजूदा कंपनी के करार को बढ़ाने की बात कर रहे हैं वहीं दूसरा गुट नई कंपनी को लाने पर अड़ा हुआ है। दोनों गुटों की लड़ाई की वजह से समय पर प्रस्ताव नहीं भेजा गया और न ही बजाज एलायंस को विस्तारीकरण ही मिल पाया।

Todays Beets: