Friday, December 14, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

गंगोत्री में बनी झील का अस्तित्व खत्म पर खतरा बरकरार, वैज्ञानिकों ने जताई चिंता 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गंगोत्री में बनी झील का अस्तित्व खत्म पर खतरा बरकरार, वैज्ञानिकों ने जताई चिंता 

देहरादून। गंगा के उद्गम स्थल गोमुख के पास पिछले साल बनी झील का वजूद बिल्कुल खत्म हो चुका है इसके बावजूद प्रदेशवासियों के लिए खतरा कम नहीं हुआ है। इस बात का खुलासा गंगोत्री का दौरा कर वापस लौटे वाडिया शोध संस्थान के वैज्ञानिकों ने किया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि फिलहाल झील का अस्तित्व तो खत्म हो गया है लेकिन वहां मौजूद मलबा परेशानी का सबब बनी हुई है। वाडिया संस्थान के वैज्ञानिकों ने बताया कि इसकी जानकारी जल्द ही राज्य सरकार और केन्द्र सरकार को भेजी जाएगी।

गौरतलब है कि गोमुख में पिछले साल एक ग्लेशियर के टूटने की वजह से बड़ी झील का निर्माण हो गया था। समय के बदलाव के साथ ही अब ग्लेशियर पूरी तरह से सूख गया है लेकिन उसका मलबा नई परेशानी खड़ी कर रहा है। वैज्ञानिकों ने बताया कि ग्लेशियर का मलबा कई किलोमीटर में फैला है और उसके कच्चा होने की वजह से बारिश के दौरान उसके नीचे खिसकने की संभावना बढ़ गई है। 

ये भी पढ़ें - हाईकोर्ट में जज के खिलाफ आपराधिक अवमानना की याचिका दायर, अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करने का आरोप

यहां बता दें कि ग्लेशियर के टुकड़ों में बड़ी मात्रा में बोल्डर और पत्थर के टुकड़े शामिल हैं ऐसे मंे बारिश के दौरान उसके नीचे गिरने से काफी नुकसान हो सकता है। वाडिया संस्थान के वैज्ञानिकांे ने बताया कि इसकी जानकारी राज्य और केन्द्र सरकार को जल्द ही दी जाएगी ताकि मलबे को नीचे आने से रोकने के उपाय किए जा सकें। 


 

 

Todays Beets: