Monday, December 11, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

राजाजी पार्क में वनरक्षकों की भर्ती में हुआ फर्जीवाड़ा, तीन बर्खास्त गार्ड के खिलाफ मुकदमा दर्ज 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राजाजी पार्क में वनरक्षकों की भर्ती में हुआ फर्जीवाड़ा, तीन बर्खास्त गार्ड के खिलाफ मुकदमा दर्ज 

देहरादून। राजाजी पार्क में साल 2013 में हुई वनरक्षकों की भर्ती में फर्जीवाड़ा सामने आया है। इसमें पहली बार वन्यजीव प्रतिपालक प्रदीप कुमार ने तीन बर्खास्त वनरक्षकों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। इसके बाद अब इन पर कार्रवाई की प्रक्रिया तेज कर दी गई है। शहर कोतवाली में जाकिर हुसैन निवासी गुमखाल पौड़ी, सूर्यप्रकाश निवासी उत्तरकाशी और कुलदीप सिंह नेगी निवासी पल्ली पौड़ी के खिलाफ धोखाधड़ी और फर्जी दस्तावेजों का इस्तेमाल कर नौकरी पाने का केस दर्ज किया गया। 

नियमों की अनदेखी

गौरतलब है कि साल 2013 में पार्क के उपनिदेशक की 4 सदस्यीय कमेटी ने वनरक्षकों की भर्ती फर्जी दस्तावेजों के आधार पर की थी। इनकी नियुक्ति में हुए फर्जीवाड़े को लेकर ऋषिकेश के आरटीआई कार्यकर्ता के द्वारा दस्तावेज दिखाकर उच्च अधिकारियों से शिकायत की। जिस पर दिसंबर 2013 में जांच एपीसीसीएफ डॉ. धनंजय मोहन को दी गई। जांच में चार फाॅरेस्ट गार्ड के दस्तावेज फर्जी पाए जाने पर उन्हें 2016 में बर्खास्त कर दिया गया। 

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में भारी बारिश का सिलसिला जारी, चंपावत में एनएच 9 भूस्खलन के बाद आवाजाही के लिए बंद 

विभागीय जांच की सिफारिश


इसके बाद तत्कालीन उपनिदेशक एच के सिंह और दूसरे अधिकारियों से इसका जवाब मांगा गया लेकिन संतोषजनक उत्तर नहीं मिला। हरिद्वार के डीएफओ ने कहा कि समय कम होने के कारण वे ठीक ढंग से प्रमाणपत्रों की जांच नहीं कर पाए। उनकी इस दलील को शासन ने नहीं माना। एचके सिंह व तीन सदस्यों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई और भर्तियों की विजिलेंस जांच की सिफारिश की गई है जिस पर सरकार को निर्णय लेना है।

 

 

Todays Beets: