Saturday, March 23, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

चंपावत के जंगलों में लगी आग पहुंची रिहाइशी इलाकों तक, पहाड़ों से पत्थर गिरने के चलते चारधाम यात्रा प्रभावित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चंपावत के जंगलों में लगी आग पहुंची रिहाइशी इलाकों तक, पहाड़ों से पत्थर गिरने के चलते चारधाम यात्रा प्रभावित

चंपावत। उत्तराखंड के जंगलों में लगी आग रिहाइशी इलाकों के साथ अब चारधाम यात्रा को भी प्रभावित करने लगी है। चंपावत के जंगलों में लगी आग की खबर मिलते ही वन विभाग के कर्मचारी इसपर काबू पाने की कोशिशें में जुट गए। करीब 2 घंटे कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया। हालांकि दोपहर बाद फिर से जंगल आग की चपेट में आ गया है। वहीं दूसरी तरफ जंगलों में लगी आग का असर चारधाम यात्रा पर भी पड़ने लगा है। रुद्रप्रयाग में आग की वजह से पहाड़ों से पत्थर गिरने का सिलसिला शुरू हो गया है जिससे यात्रियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। विपक्ष ने इस बात को लेकर सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि एक तरफ जंगलों में आग लगी है वहीं दूसरी तरफ सरकार हिमालयन बीच फेस्टिवल मानने में व्यस्त है।

गौरतलब है कि उत्तराखंड के जंगलों में पिछले 13 दिनों से आग लगी हुई है। इस आग की वजह से जहां करोड़ों रुपये की वन संपदा का नुकसान हुआ है वहीं आग की वजह से फैले धुएं की वजह से लोगों को सांस लेने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। रविवार को चंपावत के जंगलों में लगी एसपी धीरेन्द्र गुंज्याल के आवास तक पहुंच जाने से वन प्रशासन में हड़कंप मच गया। इसके बाद वन विभाग के कर्मचारियों ने घंटों कड़ी मशक्कत कर आग पर काबू पाया। मौके पर पहुंचे रेंजर केसी तिवारी ने बताया कि आग लगने से लगभग आधा हेक्टेयर जंगल को नुकसान पहुंचा है। विभाग की ओर से सर्तकता बरती जा रही है। उत्तरकाशी में भी सरकारी गेस्ट हाउस तक पहुंची आग पर कर्मचारियों ने किसी तरह से काबू पाया।


ये भी पढ़ें - थराली विधानसभा उपचुनाव में भी दिख रहा मतदाताओं का जोश, ईवीएम में खराबी के कारण वोटिंग प्रभावित

यहां बता दें कि राज्य के ज्यादातर जिलों के जंगलों में लगी आग का असर चारधाम यात्रा पर भी पड़ना शुरू हो गया है। रुद्रप्रयाग जिले में जंगल की आग के बाद पहाड़ों से पत्थर गिरने के चलते यात्रियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। आग पर काबू पाने की कोशिशों के बीच विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश के जंगल धधक रहे हैं और वह मौज मस्ती में डूबी हुई है। बता दें कि सरकार की तरफ से उत्तरकाशी में हिमालयन बीच फेस्टिवल मनाया जा रहा है। आग के विकराल रूप को देखते हुए दोनों जगहों पर एहतियात के तौर पर फायर ब्रिगेड के वाहनों को तैनात कर दिया गया है। आग पर काबू पाने के लिए चकराता वन प्रभाग और भूमि संरक्षण वन प्रभाग के डीएफओ को मौके पर जाने के निर्देश दिए गए हैं। आग बुझाने के प्रयास जारी हैं, उम्मीद है कि आग पर जल्द काबू पा लिया जाएगा।  

Todays Beets: