Wednesday, March 27, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

टिहरी के स्वास्थ्य विभाग में भर्ती में हुआ गड़बड़झाला, छात्रों ने की जांच की मांग

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टिहरी के स्वास्थ्य विभाग में भर्ती में हुआ गड़बड़झाला, छात्रों ने की जांच की मांग

देहरादून। उत्तराखंड में एक के बाद एक घोटाला सामने आ रहा है। अब टिहरी में सीनियर ट्रीटमेंट सुपरवाइजरों की भर्ती मामले में गड़बड़झाले का पता चला है। स्वास्थ्य विभाग ने चयन समिति के अभिलेखों में पैन से कटिंग की बात स्वीकार कर ली। यही नहीं, इस पर किसी अधिकारी के हस्ताक्षर तक नहीं हैं। बता दें कि टिहरी के स्वास्थ्य विभाग में बिना योग्यता के ही भर्ती करने का आरोप है।

दस्तावेजों में छेड़छाड़

गौरतलब है कि राष्ट्रीय क्षय रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत पिछले साल अगस्त माह में स्वास्थ्य विभाग ने 4 पदों पर भर्ती निकाली थी। परीक्षा के बाद 31 सितंबर को जब इसका परिणाम आया तो इससे नाराज होकर मनीष सिंह और पवन चंद रमोला ने डीएम से भर्ती में गड़बड़ी की शिकायत कर दी। इसके साथ ही उन्होंने समाधान पोर्टल पर भी शिकायत दर्ज कराई थी। उन्होंने आरोप लगाया था कि पद के लिए मांगी गई योग्यता न होने के बावजूद कुछ लोगों को नियुक्तियां दे दी गईं। उन्होंने चयन समिति के दस्तावेजों में पैन से छेड़छाड़ का आरोप भी लगाया है।

ये भी पढ़ें -पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी ने लोगों की मुसीबतें बढ़ाईं, आने वाले 24 घंटे रहेंगे भारी


जांच की मांग

आपको बता दें कि अब सीएमओ दफ्तर ने समाधान पोर्टल पर दस्तावेजों में पैन से कटिंग की बात स्वीकारी है। ऐसे में अभ्यर्थियों ने डीएम से इस मामले की जांच की मांग की है। वहीं टिहरी की डीएम सोनिका का कहना है कि विभाग से लिखित जवाब मिलने के बाद इसे जांच में शामिल किया जाएगा। 

 

Todays Beets: