Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

शिक्षकों के आंदोलन पर सरकार हुई सख्त, कहा-आंदोलन वापस लें नहीं तो होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शिक्षकों के आंदोलन पर सरकार हुई सख्त, कहा-आंदोलन वापस लें नहीं तो होगी कार्रवाई

देहरादून। उत्तराखंड में अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर राजकीय शिक्षक संघ के प्रति सरकार ने सख्त रुख अपनाया है।  शिक्षा निदेशक आरके कुंवर ने संघ के अध्यक्ष और महामंत्री को नोटिस जारी करते हुए आंदोलन खत्म करने के आदेश दिए हैं। निदेशक ने चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि आंदोलन खत्म न हुआ तो शिक्षकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। यहां बता दें कि प्रदेश के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे शिक्षकों के आंदोलन बेमतलब बता चुके हैं। शिक्षकों के आंदोलन पर राजनीति भी तेज हो गई है। विपक्ष की नेता इंदिरा हृदयेश ने उनका समर्थन किया है।

गौरतलब है कि शिक्षामंत्री के सख्त रुख के बाद विभागीय अधिकारियों ने भी अपने मूड सख्त कर लिया है। विभाग की ओर से आंदोलन में शामिल शिक्षकों की सूची मांगी है। सरकार के सख्त कदम के प्रति शिक्षक संघ ने भी नाराजगी जताई है। उनका कहना है कि सरकार जानबूझ कर शिक्षकों को परेशान कर रही है। शिक्षक संघ ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर शिक्षकों पर कार्रवाई की जाती है तो वे चुप नहीं बैठेंगे। 

ये भी पढ़ें - अपने ही विधायकों के आगे झुकी सरकार, मलिन बस्तियों को बचाने के लिए लाई अध्यादेश


यहां बता दें कि राजकीय शिक्षक संघ अपनी 18 सूत्रीय मांगों को लेकर 21 जुलाई से ही हड़ताल कर रहे हैं। आंदोलन करते हुए एक सप्ताह से ज्यादा का समय बीत जाने के बाद भी शिक्षा मंत्री ने उनलोगों को बातचीत के लिए नहीं बुलाया। शिक्षक संघ का आरोप है कि अफसर आंदोलन वाली जगहों से गुजरते रहे लेकिन किसी ने उनक सुध नहीं ली और अब नोटिस भेजा जा रहा है।

गौर करने वाली बात है कि शिक्षकों के आंदोलन पर राजनीति भी तेज हो गई है। नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश शिक्षा निदेशालय आकर शिक्षकों को समर्थन का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा से शिक्षकों का सम्मान करती आई है लेकिन गुरू शिष्य परंपरा का ध्वजवाहक बताने वाली भाजपा आज शिक्षकों के अपमान का कोई मौका नहीं चूक रही है।  

Todays Beets: