Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

शिक्षकों के आंदोलन पर सरकार हुई सख्त, कहा-आंदोलन वापस लें नहीं तो होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
शिक्षकों के आंदोलन पर सरकार हुई सख्त, कहा-आंदोलन वापस लें नहीं तो होगी कार्रवाई

देहरादून। उत्तराखंड में अपनी मांगों को लेकर आंदोलन कर राजकीय शिक्षक संघ के प्रति सरकार ने सख्त रुख अपनाया है।  शिक्षा निदेशक आरके कुंवर ने संघ के अध्यक्ष और महामंत्री को नोटिस जारी करते हुए आंदोलन खत्म करने के आदेश दिए हैं। निदेशक ने चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि आंदोलन खत्म न हुआ तो शिक्षकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। यहां बता दें कि प्रदेश के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे शिक्षकों के आंदोलन बेमतलब बता चुके हैं। शिक्षकों के आंदोलन पर राजनीति भी तेज हो गई है। विपक्ष की नेता इंदिरा हृदयेश ने उनका समर्थन किया है।

गौरतलब है कि शिक्षामंत्री के सख्त रुख के बाद विभागीय अधिकारियों ने भी अपने मूड सख्त कर लिया है। विभाग की ओर से आंदोलन में शामिल शिक्षकों की सूची मांगी है। सरकार के सख्त कदम के प्रति शिक्षक संघ ने भी नाराजगी जताई है। उनका कहना है कि सरकार जानबूझ कर शिक्षकों को परेशान कर रही है। शिक्षक संघ ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर शिक्षकों पर कार्रवाई की जाती है तो वे चुप नहीं बैठेंगे। 

ये भी पढ़ें - अपने ही विधायकों के आगे झुकी सरकार, मलिन बस्तियों को बचाने के लिए लाई अध्यादेश


यहां बता दें कि राजकीय शिक्षक संघ अपनी 18 सूत्रीय मांगों को लेकर 21 जुलाई से ही हड़ताल कर रहे हैं। आंदोलन करते हुए एक सप्ताह से ज्यादा का समय बीत जाने के बाद भी शिक्षा मंत्री ने उनलोगों को बातचीत के लिए नहीं बुलाया। शिक्षक संघ का आरोप है कि अफसर आंदोलन वाली जगहों से गुजरते रहे लेकिन किसी ने उनक सुध नहीं ली और अब नोटिस भेजा जा रहा है।

गौर करने वाली बात है कि शिक्षकों के आंदोलन पर राजनीति भी तेज हो गई है। नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश शिक्षा निदेशालय आकर शिक्षकों को समर्थन का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा से शिक्षकों का सम्मान करती आई है लेकिन गुरू शिष्य परंपरा का ध्वजवाहक बताने वाली भाजपा आज शिक्षकों के अपमान का कोई मौका नहीं चूक रही है।  

Todays Beets: