Wednesday, November 14, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

निजी संस्थानों में पढ़ने वाले अनुसूचित जाति और जनजाति के छात्रों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, सरकार शासनादेश में कर सकती है बदलाव

अंग्वाल न्यूज डेस्क
निजी संस्थानों में पढ़ने वाले अनुसूचित जाति और जनजाति के छात्रों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, सरकार शासनादेश में कर सकती है बदलाव

देहरादून। राज्य के निजी संस्थानों और काॅलेजों में पढ़ने वाले अनुसूचित जाति और जनजाति के छात्रों की मुश्किलें एक बार फिर से बढ़ सकती हैं। सरकार निजी शिक्षण एवं व्यावसायिक संस्थानों में तय की गई फीस की दरों के फैसले को पलटने की तैयारी कर रही है। बताया जा रहा है कि सरकारी दर की वजह से निजी संस्थानों को लाभ नहीं हो रहा है ऐसे में उन्होंने सरकार से साफ कह दिया है कि वे अगले सत्र से छात्रों को प्रवेश नहीं देंगे। अब इन संस्थानों के दवाब में सरकार शासनादेश में संशोधन करने पर विचार कर रही है।

गौरतलब है कि छात्रवृत्ति योजना में बड़े घोटाले के बाद समाज कल्याण विभाग की ओर से निजी संस्थानों और काॅलेजों में फीस की मनमानी पर अंकुश लगाने के लिए कई शासनादेश जारी किए गए थे। इसमें निजी शिक्षण एवं व्यावसायिक संस्थानों में प्रवेश लेने वाले अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति वर्ग के छात्रों की फीस की सरकारी दर तय की गई थी। प्रवेश के वक्त छात्र-छात्रा सरकार की ओर से तय फीस ही संस्थान में जमा करते हैं और बाद में सरकार उसे छात्र-छात्राओं के खाते में वापस कर देती है। 

ये भी पढ़ें - बाबा केदार के दर्शन करेंगे पीएम मोदी, हर्षिल वैली में जवानों के साथ मनाएंगे दिवाली  


यहां बता दें कि इस शासनादेश से कई नामी निजी शिक्षण संस्थान सहमत नहीं हैं और उन्हें सरकारी दरों पर फीस घाटे का सौदा लग रही है। निजी शिक्षण संस्थान चाहते हैं कि सरकार शासनादेश में संशोधन करे और संस्थान को अपने हिसाब से शुल्क निर्धारण की अनुमति दी जाए। शासनादेश में संशोधन के लिए निजी शिक्षण संस्थानों के संगठन की ओर से शासन को प्रत्यावेदन दिया गया है। कुछ बड़े नेताओं की तरफ से भी निजी संस्थानों के समर्थन में आवाज उठाई जा रही है। ऐसे में सरकार अब इस मामले को गंभीरता से ले रही है। 

Todays Beets: