Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

गायब हुए डाॅक्टरों के गारंटरों से वसूली जाएगी बाॅन्ड की रकम, नोटिस भेजने की तैयारी शुरू

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गायब हुए डाॅक्टरों के गारंटरों से वसूली जाएगी बाॅन्ड की रकम, नोटिस भेजने की तैयारी शुरू

देहरादून। राज्य सरकार ने सरकारी मेडिकल कॉलेजों से एमबीबीएस करने वाले बाॅन्डधारी डॉक्टरों के पहाड़ न चढ़ने पर सख्त रुख अपनाया है। सरकार ने अब उनके गारंटरों से बाॅन्ड की रकम वसूलने की तैयारी कर रही है। सरकार ने इसकी तैयारी शुरू करते हुए बाॅन्ड वाले डॉक्टरों के गारंटरों को नोटिस भेजने का निर्णय लिया है। बता दें कि उत्तराखंड के सरकारी मेडिकल काॅलेज से एमबीबीएस करने वाले डाॅक्टरों से बाॅन्ड भरवाते समय गारंटर की शर्त रखी थी। ऐसे में ज्यादातर डाॅक्टरों ने अपने परिजनों या संबंधियों को ही गारंटर बनाया था। कोर्स पूरा होने के बाद अब ये डाॅक्टर राज्य के दूर-दराज इलाकों में सेवा देने से मुकर रहे हैं।

गौरतलब है कि राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था को सुधारने के लिए सरकार की ओर से एक नया तरीका अपनाया गया था। इसके लिए सरकार ने बाॅन्ड की व्यवस्था लागू की थी। इसके तहत सरकारी मेडिकल कॉलेजों से एमबीबीएस करने वाले छात्रों को मामूली फीस पर कोर्स की सुविधा दी गई। बदले में डॉक्टरों को 5 सालों तक पहाड़ी इलाकों में अपनी सेवाएं देनी थी लेकिन बाॅन्ड के बावजूद अधिकांश डॉक्टर अस्पतालों से गायब हो गए।

ये भी पढ़ें- मी टू प्रकरणः संजय कुमार की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, पीड़िता आज दर्ज कराएगी बयान


यहां बता दें कि सरकार की ओर से बाॅन्ड भरवाते समय गारंटर की शर्त रखी गई थी। कोर्स करने के वक्त छात्रों ने अपने परिजनों और सगे-संबंधियों को गारंटर बना दिया। खबरों के अनुसार बाॅन्ड के आधार पर कोर्स करने वाले करीब 1400 डाॅक्टर पास हो चुके हैं और उनमें से 600 डाॅक्टर गायब हो गए हैं। सरकार की ओर से इन डाॅक्टरों को कई बार नोटिस भेजा गया लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। 

आपको बता दें कि सरकार अब इन्हीं गारंटरों को नोटिस भेजकर वसूली की तैयारी कर रही है। बता दें कि अलग-अलग समय पर डॉक्टरों से अलग-अलग बाॅन्ड भराए गए। उसमें 3 लाख से 30 लाख तक की वसूली का नियम है। हालांकि नए बांड 1 से ढ़ाई करोड़ के भी हैं लेकिन इन छात्रों का कोर्स अभी पूरा नहीं हुआ है। चिकित्सा शिक्षा सचिव नितेश झा ने कहा कि बांड वाले डॉक्टरों पर दबाव को अब उनके गारंटरों को वसूली नोटिस भेजेंगे।

Todays Beets: