Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

पहाड़ी रास्तों पर हो रही ओवरलोडिंग पर हाईकोर्ट सख्त, भारी वाहनों पर लगाई रोक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पहाड़ी रास्तों पर हो रही ओवरलोडिंग पर हाईकोर्ट सख्त, भारी वाहनों पर लगाई रोक

नैनीताल। नैनीताल हाईकोर्ट ने पहाड़ी रास्तों पर गाड़ियों में हो रही ओवरलोडिंग पर सख्त रवैया अपनाया है और इस पर पाबंदी लगा दी है। साथ ही आरटीओ को यह सुनिश्चित करने के लिए जवाबदेह बना दिया है। संभागीय परिवहन अधिकारी से आदेश क्रियान्वयन का रोडमैप देने को भी कहा है। बता दें कि अधिवक्ता सुंदर सिंह मेहरा ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी जिसमें कुमाऊं मंडल के टनकपुर-चंपावत- पिथौरागढ़ मार्ग पर एफसीआई द्वारा ओवर लोडेड ट्रक चलाए जा रहे हैं। 

मानकों से ज्यादा भार ढो रही गाड़ियां

गौरतलब है कि पहाड़ी मार्ग में अतिसंवेदनशील कच्ची पहाड़ियों से बना हुआ है,  जिसपर बने अधिकतर पुल सालों पुराने हैं। याचिकाकर्ता ने कहा कि ओवरलोडेड गाड़ियों के चलने से इन कच्चे रास्तों पर जाम की स्थिति पैदा हो जाती है जिससे सड़क की सुरक्षा दीवार कमजोर होती जा रही है। यही वजह है कि बरसात के दिनों में भारी मात्रा में भूस्खलन होना शुरू हे जाता है। उनका कहना है कि परिवहन विभाग के नियमों की भी जमकर अनदेखी हो रही है। अधिवक्ता मेहरा ने कहा कि इन रास्तों पर सिर्फ 90 क्विंटल तक का भार ले जाने की अनुमति है लेकिन यहां 200 क्विंटल तक का भार लादकर गाड़ियां चलाई जा रहीं हैं।  


ये भी पढ़ें - बेहतर सुरक्षा व्यवस्था मुहैया कराने वाले उत्तराखंड के जवानों को मिला राष्ट्रपति पुलिस पदक, गृ...

ओवरलोडिंग पर रोक

बता दें कि ट्रक एसोसिएशनों द्वारा भी इसका विरोध किया गया था और सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का हवाला देते हुए इस पर रोक लगाने की मांग की थ्ी लेकिन इस तरफ कोई काम नहीं हुआ। अब इस मामले की सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति केएम जोसफ व न्यायाधीश वीके बिष्ट की खंडपीठ ने पर्वतीय क्षेत्रों में ओवर लोडिंग पर पाबंदी लगा दी है।

Todays Beets: