Thursday, November 23, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

पहाड़ी रास्तों पर हो रही ओवरलोडिंग पर हाईकोर्ट सख्त, भारी वाहनों पर लगाई रोक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पहाड़ी रास्तों पर हो रही ओवरलोडिंग पर हाईकोर्ट सख्त, भारी वाहनों पर लगाई रोक

नैनीताल। नैनीताल हाईकोर्ट ने पहाड़ी रास्तों पर गाड़ियों में हो रही ओवरलोडिंग पर सख्त रवैया अपनाया है और इस पर पाबंदी लगा दी है। साथ ही आरटीओ को यह सुनिश्चित करने के लिए जवाबदेह बना दिया है। संभागीय परिवहन अधिकारी से आदेश क्रियान्वयन का रोडमैप देने को भी कहा है। बता दें कि अधिवक्ता सुंदर सिंह मेहरा ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी जिसमें कुमाऊं मंडल के टनकपुर-चंपावत- पिथौरागढ़ मार्ग पर एफसीआई द्वारा ओवर लोडेड ट्रक चलाए जा रहे हैं। 

मानकों से ज्यादा भार ढो रही गाड़ियां

गौरतलब है कि पहाड़ी मार्ग में अतिसंवेदनशील कच्ची पहाड़ियों से बना हुआ है,  जिसपर बने अधिकतर पुल सालों पुराने हैं। याचिकाकर्ता ने कहा कि ओवरलोडेड गाड़ियों के चलने से इन कच्चे रास्तों पर जाम की स्थिति पैदा हो जाती है जिससे सड़क की सुरक्षा दीवार कमजोर होती जा रही है। यही वजह है कि बरसात के दिनों में भारी मात्रा में भूस्खलन होना शुरू हे जाता है। उनका कहना है कि परिवहन विभाग के नियमों की भी जमकर अनदेखी हो रही है। अधिवक्ता मेहरा ने कहा कि इन रास्तों पर सिर्फ 90 क्विंटल तक का भार ले जाने की अनुमति है लेकिन यहां 200 क्विंटल तक का भार लादकर गाड़ियां चलाई जा रहीं हैं।  


ये भी पढ़ें - बेहतर सुरक्षा व्यवस्था मुहैया कराने वाले उत्तराखंड के जवानों को मिला राष्ट्रपति पुलिस पदक, गृ...

ओवरलोडिंग पर रोक

बता दें कि ट्रक एसोसिएशनों द्वारा भी इसका विरोध किया गया था और सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का हवाला देते हुए इस पर रोक लगाने की मांग की थ्ी लेकिन इस तरफ कोई काम नहीं हुआ। अब इस मामले की सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति केएम जोसफ व न्यायाधीश वीके बिष्ट की खंडपीठ ने पर्वतीय क्षेत्रों में ओवर लोडिंग पर पाबंदी लगा दी है।

Todays Beets: