Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

पहाड़ी रास्तों पर हो रही ओवरलोडिंग पर हाईकोर्ट सख्त, भारी वाहनों पर लगाई रोक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पहाड़ी रास्तों पर हो रही ओवरलोडिंग पर हाईकोर्ट सख्त, भारी वाहनों पर लगाई रोक

नैनीताल। नैनीताल हाईकोर्ट ने पहाड़ी रास्तों पर गाड़ियों में हो रही ओवरलोडिंग पर सख्त रवैया अपनाया है और इस पर पाबंदी लगा दी है। साथ ही आरटीओ को यह सुनिश्चित करने के लिए जवाबदेह बना दिया है। संभागीय परिवहन अधिकारी से आदेश क्रियान्वयन का रोडमैप देने को भी कहा है। बता दें कि अधिवक्ता सुंदर सिंह मेहरा ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी जिसमें कुमाऊं मंडल के टनकपुर-चंपावत- पिथौरागढ़ मार्ग पर एफसीआई द्वारा ओवर लोडेड ट्रक चलाए जा रहे हैं। 

मानकों से ज्यादा भार ढो रही गाड़ियां

गौरतलब है कि पहाड़ी मार्ग में अतिसंवेदनशील कच्ची पहाड़ियों से बना हुआ है,  जिसपर बने अधिकतर पुल सालों पुराने हैं। याचिकाकर्ता ने कहा कि ओवरलोडेड गाड़ियों के चलने से इन कच्चे रास्तों पर जाम की स्थिति पैदा हो जाती है जिससे सड़क की सुरक्षा दीवार कमजोर होती जा रही है। यही वजह है कि बरसात के दिनों में भारी मात्रा में भूस्खलन होना शुरू हे जाता है। उनका कहना है कि परिवहन विभाग के नियमों की भी जमकर अनदेखी हो रही है। अधिवक्ता मेहरा ने कहा कि इन रास्तों पर सिर्फ 90 क्विंटल तक का भार ले जाने की अनुमति है लेकिन यहां 200 क्विंटल तक का भार लादकर गाड़ियां चलाई जा रहीं हैं।  


ये भी पढ़ें - बेहतर सुरक्षा व्यवस्था मुहैया कराने वाले उत्तराखंड के जवानों को मिला राष्ट्रपति पुलिस पदक, गृ...

ओवरलोडिंग पर रोक

बता दें कि ट्रक एसोसिएशनों द्वारा भी इसका विरोध किया गया था और सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का हवाला देते हुए इस पर रोक लगाने की मांग की थ्ी लेकिन इस तरफ कोई काम नहीं हुआ। अब इस मामले की सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति केएम जोसफ व न्यायाधीश वीके बिष्ट की खंडपीठ ने पर्वतीय क्षेत्रों में ओवर लोडिंग पर पाबंदी लगा दी है।

Todays Beets: