Saturday, December 15, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

ईवीएम में छेड़छाड़ का आरोप लगाने वाले पर हाईकोर्ट सख्त, लगाया 1 लाख रुपये का जुर्माना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
ईवीएम में छेड़छाड़ का आरोप लगाने वाले पर हाईकोर्ट सख्त, लगाया 1 लाख रुपये का जुर्माना

नैनीताल। उत्तराखंड हाईकोर्ट ने राज्य में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान हरिद्वार ग्रामीण सीट पर ईवीएम में छेड़छाड़ का आरोप लगाने वाले पर 1 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। जस्टिस लोकपाल सिंह की एकल पीठ ने इस मामले पर सुनवाई करते हुए मामले को निस्तारित कर दिया। यहां बता दें कि हरिद्वार ग्रामीण सीट पर ईवीएम में छेड़छाड़ का आरोप वहीं के चरण सिंह नाम के शख्स ने लगाया था। उस पर पहले 50 हजार का जुर्माना लगाया गया था लेकिन रकम जमा नहीं कराने के चलते अब इसे बढ़ाकर 1 लाख रुपये कर दिया गया है। 

गौरतलब है कि उत्तराखंड विधानसभा के चुनाव में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत हरिद्वार ग्रामीण और किच्छा दो सीटों से चुनाव लड़े थे और दोनों ही जगहों से हार गए थे। इस सीट से भाजपा के यतीश्वरानंद ने बाजी मारी थी। इसके बाद वहीं के एक शख्स चरण सिंह ने ईवीएम में छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए अदालत में याचिका दायर की थी। जस्टिस लोकपाल सिंह ने याचिका पर सुनवाई करते हुए याचिकाकर्ता पर 1 लाख रुपये का जुर्माना लगाने के साथ ही याचिका को निस्तारित कर दिया। 

ये भी पढ़ें -उत्तराखंड सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने दिया झटका, गंगा में खनन पर रोक बरकरार


यहां बता दें कि अदालत ने पिछली सुनवाई में याची चरण सिंह पर 51 हजार रुपये का जुर्माना लगाया था लेकिन यह रकम जमा नहीं कराई गई। संज्ञान में यह बात लाए जाने पर अदालत ने जुर्माने की रकम बढ़ाकर एक लाख रुपये कर दी। याची को जुर्माने की रकम जमा कराने के लिए एक माह की मोहलत दी गयी है। एकलपीठ ने कहा कि चरण सिंह चुनाव में प्रत्याशी नहीं थे। ऐसे में उनकी इस याचिका का कोई औचित्य नहीं है।

 

Todays Beets: