Monday, October 22, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

कांग्रेस शासन में विधानसभा में नियुक्त हुए 164 कर्मचारियों-अधिकारियों को हाईकोर्ट का नोटिस, 4 हफ्ते में मांगा जवाब

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कांग्रेस शासन में विधानसभा में नियुक्त हुए 164 कर्मचारियों-अधिकारियों को हाईकोर्ट का नोटिस, 4 हफ्ते में मांगा जवाब

नैनीताल। उत्तराखंड विधानसभा में नौकरी पाने वाले 164 अधिकारियों और कर्मचारियों को हाईकोर्ट ने नोटिस जारी किया है। इसके साथ ही कोर्ट ने इन सभी को चार हफ्ते के अंदर कोर्ट में अपना जवाब दाखिल करने के आदेश दिए हैं। बता दें कि नैनीताल हाईकोर्ट की संयुक्त पीठ ने विधानसभा में हुई नियुक्तियों को लेकर दायर जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद यह फैसला दिया है। अब इस मामले की अगली सुनवाई चार सप्ताह के बाद होगी।

नियुक्ति को निरस्त करने की मांग

गौरतलब है कि साल 2016 में विधानसभा में नियुक्ति पाने वाले इन कर्मचारियों को चपरासी से लेकर निजी सचिव और अपर सचिव पद तक तैनाती दी गई है। बागेश्वर जिले के रहने वाले राजेश चंदोला और अन्य लोगों ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर कहा था कि इन सभी लोगों को गुपचुप तरीके से नियुक्ति दी गई है और इसमें मानकों की जमकर धज्जियां उड़ाई गईं। आपको बता दें कि इस जनहित याचिका में नियुक्ति प्रक्रिया की जांच और नियुक्तियों को निरस्त करने की मांग की गई है। 

ये भी पढ़ें - उत्तरकाशी में लग रहा प्रवासी पक्षियों का जमावड़ा, ईको टूरिज्म को मिलेगा बढ़ावा


कांग्रेस सरकार में भर्ती

यहां बता दें कि साल 2016 में उत्तराखंड विधानसभा में ये नियुक्तियां उस समय हुईं जब वहां कांग्रेस की सरकार थी और विधानसभा अध्यक्ष गोविंद सिंह कुंजवाल थे। याचिका में आरोप लगाया गया है कि अधिकारियों और कर्मचारियों की नियुक्ति प्रक्रिया में विधानसभा की नियमावली का भी उल्लंघन किया गया है।

Todays Beets: