Sunday, February 17, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को लेकर प्राध्यापकों का रुख सख्त, 25 अक्टूबर से आंदोलन की चेतावनी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को लेकर प्राध्यापकों का रुख सख्त, 25 अक्टूबर से आंदोलन की चेतावनी

देहरादून। सातवें वेतमान को लेकर प्रदेश के डिग्री काॅलेजों के प्राध्यापकों ने अब सख्त रुख अपना लिया है। प्राध्यापकों ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर 24 अक्टूबर तक इसे लागू नहीं किया गया तो 25 अक्टूबर से पूरे प्रदेश में आंदोलन शुरू किया जाएगा। बता दें कि उच्च शिक्षा विभाग ने प्राध्यापकों के वेतन से जुड़ी फाइलों को वित्त विभाग में भेज दिया है। गौर करने वाली बात है कि वित्त मंत्री प्रकाश पंत के आश्वासन के बाद भी इस पर कोई कार्रवाई नहीं होने से प्राध्यापकों में भारी नाराजगी है। यहां बता दें कि इससे पहले नैनीताल में भी उच्च शिक्षण संस्थानों के शिक्षकों ने कार्यबहिष्कार किया था।

गौरतलब है कि उच्च शिक्षा के शिक्षकों के वेतन का मामला सामान्य कर्मचारियों के मामले से अलग होता है। उनके वेतन का निर्धारण विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) से तय होने के बाद किया जाता है। खबरों के अनुसार यूजीसी ने इस साल फरवरी में ही इसे मंजूरी दे दी थी लेकिन अभी तक इसे लागू नहीं किया गया है।

ये भी पढ़ें - रामगढ़ में ततैये के आतंक का शिकर हुए भाजपा नेता, अस्पताल में हुई मौत


यहां बता दें कि सातवें वेतनमान को लेकर सरकारी स्तर पर बरती जा रही ढिलाई से शिक्षकों में काफी नाराजगी है। उच्च शिक्षा विभाग ने कुछ समय पहले ही सातवंे वेतन आयोग से जुड़ी फाइलों को वित्त विभाग के पास भेजा था लेकिन विभाग ने प्राध्यापकों और निदेशालय के अधिकारियों के वेतन में विसंगति का स्पष्टीकरण मांगा था। उच्च शिक्षा विभाग ने इस मामले पर अपना स्पष्टीकरण भी दे चुका है लेकिन इसके बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई। 

गौर करने वाली बात है कि सरकार के रवैये से नाराज प्राध्यापकों ने अब मोर्चा खोल दिया है। उन्हांेने सरकार को चेतावनी देते हुए 24 अक्टूबर तक इस मामले को सुलझाने कहा है। ऐसा नहीं होने पर 25 अक्टूबर से पूरे प्रदेश में आंदोलन शुरू किया जाएगा। 

Todays Beets: