Tuesday, December 11, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को लेकर प्राध्यापकों का रुख सख्त, 25 अक्टूबर से आंदोलन की चेतावनी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को लेकर प्राध्यापकों का रुख सख्त, 25 अक्टूबर से आंदोलन की चेतावनी

देहरादून। सातवें वेतमान को लेकर प्रदेश के डिग्री काॅलेजों के प्राध्यापकों ने अब सख्त रुख अपना लिया है। प्राध्यापकों ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर 24 अक्टूबर तक इसे लागू नहीं किया गया तो 25 अक्टूबर से पूरे प्रदेश में आंदोलन शुरू किया जाएगा। बता दें कि उच्च शिक्षा विभाग ने प्राध्यापकों के वेतन से जुड़ी फाइलों को वित्त विभाग में भेज दिया है। गौर करने वाली बात है कि वित्त मंत्री प्रकाश पंत के आश्वासन के बाद भी इस पर कोई कार्रवाई नहीं होने से प्राध्यापकों में भारी नाराजगी है। यहां बता दें कि इससे पहले नैनीताल में भी उच्च शिक्षण संस्थानों के शिक्षकों ने कार्यबहिष्कार किया था।

गौरतलब है कि उच्च शिक्षा के शिक्षकों के वेतन का मामला सामान्य कर्मचारियों के मामले से अलग होता है। उनके वेतन का निर्धारण विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) से तय होने के बाद किया जाता है। खबरों के अनुसार यूजीसी ने इस साल फरवरी में ही इसे मंजूरी दे दी थी लेकिन अभी तक इसे लागू नहीं किया गया है।

ये भी पढ़ें - रामगढ़ में ततैये के आतंक का शिकर हुए भाजपा नेता, अस्पताल में हुई मौत


यहां बता दें कि सातवें वेतनमान को लेकर सरकारी स्तर पर बरती जा रही ढिलाई से शिक्षकों में काफी नाराजगी है। उच्च शिक्षा विभाग ने कुछ समय पहले ही सातवंे वेतन आयोग से जुड़ी फाइलों को वित्त विभाग के पास भेजा था लेकिन विभाग ने प्राध्यापकों और निदेशालय के अधिकारियों के वेतन में विसंगति का स्पष्टीकरण मांगा था। उच्च शिक्षा विभाग ने इस मामले पर अपना स्पष्टीकरण भी दे चुका है लेकिन इसके बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई। 

गौर करने वाली बात है कि सरकार के रवैये से नाराज प्राध्यापकों ने अब मोर्चा खोल दिया है। उन्हांेने सरकार को चेतावनी देते हुए 24 अक्टूबर तक इस मामले को सुलझाने कहा है। ऐसा नहीं होने पर 25 अक्टूबर से पूरे प्रदेश में आंदोलन शुरू किया जाएगा। 

Todays Beets: