Thursday, October 19, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

कुमाऊं विश्वविद्यालय में पढ़ाया जाएगा राज्य का इतिहास,छात्रों को मिलेगी देवभूमि के बारे में सभी जानकारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कुमाऊं विश्वविद्यालय में पढ़ाया जाएगा राज्य का इतिहास,छात्रों को मिलेगी देवभूमि के बारे में सभी जानकारी

नैनीताल। राज्य के उच्च शिक्षण संस्थानों में जल्द ही उत्तराखंड का इतिहास पढ़ाया जाएगा। कुमाऊं विश्वविद्यालय में इसके लिए पूरी तरह से तैयारी की जा चुकी है। राज्य का इतिहास पाठ्यक्रम में शामिल करने के लिए प्रस्ताव शासन के पास भेजा जा चुका है। ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही इसे मंजूरी मिल जाएगी। शासन से मंजूरी मिलते ही विश्वविद्यालय में इसकी पढ़ाई शुरू कर दी जाएगी। पहले चरण में छात्रों का क्या पढ़ाना है इसका सिलेबस भी तैयार कर लिया गया है। इस नए पाठ्यक्रम के तहत छात्र-छात्राओं को कुमाऊं और गढ़वाल के इतिहास पर ना सिर्फ पठन-पाठन करवाया जाएगा, बल्कि यहां के पौराणिक विषयों पर शोध करने का मौका भी मिलेगा। आपको बता दें कि देवभूमि के नाम से मशहूर उत्तराखंड में पुराने मंदिरों और यहां की कला संस्कृति के ऊपर अभी भी कई विश्वविद्यालय के छात्र शोध कर रहे हैं। कुमाऊं विश्वविद्यालय में राज्य के इतिहास की पढ़ाई शुरू होने से उन शोधार्थियों को भी मदद मिलेगी। 

 

ये भी पढ़ें - उत्तरप्रदेश के शिक्षकों को उत्तराखंड सरकार का तोहफा, 99 शिक्षक अपने गृहनगर में मनाएंगे दिवाली


 

Todays Beets: