Thursday, April 26, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

एनसीईआरटी किताबों को लेकर स्कूलों की मनमानी के खिलाफ कंट्रोल रूम को मिली सैकड़ों शिकायतें, जांच के बाद होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एनसीईआरटी किताबों को लेकर स्कूलों की मनमानी के खिलाफ कंट्रोल रूम को मिली सैकड़ों शिकायतें, जांच के बाद होगी कार्रवाई

देहरादून। राज्य में एनसीईआरटी किताबों के लागू होने के बाद अभिभावकों पर निजी प्रकाशकों और स्कूलों के द्वारा दवाब बनाने का सिलसिला जारी है। इससे निपटने के लिए मुख्यमंत्री कार्यालय ने संज्ञान लेते हुए कंट्रोल रूम की स्थापना की थी। बता दें कि इस कंट्रोल रूम में एक दिन में सैकड़ों अभिभावकों की शिकायतें दर्ज की गई हैं। अब इन सब की जांच करने के बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़ें - उपनल नौकरी विवाद के बाद अटकी 117 भर्तियां, परियोजनाओं का समय पर पूरा होना मुश्किल


गौरतलब है कि प्रदेश में नए सत्र से एनसीईआरटी की किताबें लागू कर दी गई हैं। सरकार के इस फैसले का निजी स्कूल संचालकों ने काफी विरोध किया लेकिन सरकार ने अपनी बात स्पष्ट कर दी थी कि किताबों को लागू करने का फैसला वापस नहीं लिया जाएगा। सरकार के फैसले को लेकर स्कूल संचालक कोर्ट में चले गए थे।  किताबों को लेकर निजी स्कूलों या प्रकाशकों के द्वारा अभिभावकों पर दवाब बनाने की शिकायतें सोशल मीडिया पर मिलने के बाद मुख्यमंत्री कार्यालय ने कंट्रोल रूम की स्थापना की थी। इसके पहले दिन देहरादून से सबसे अधिक 44, जबकि प्रदेशभर के पांच जिलों से 136 शिकायतें आईं। हरिद्वार से 40, ऊधमसिंह नगर से 30, उत्तरकाशी से 12, चमोली से 6 और कोटद्वार से 4 शिकायतें आईं हैं।  मुख्य शिक्षा अधिकारी एसबी जोशी ने बताया कि कंट्रोल रूम में ईमेल के जरिए आई शिकायतों पर भी स्कूल की जांच की जाएगी। 

Todays Beets: