Sunday, July 22, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

उत्तराखंड में गोमुख के पास हुआ भूस्खलन, भागीरथी के रुख में हुआ बदलाव

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में गोमुख के पास हुआ भूस्खलन, भागीरथी के रुख में हुआ बदलाव

देहरादून। उत्तराखंड में भारत-चीन सीमा पर गोमुख के करीब हुए भूस्खलन की वजह से भागीरथी के बहाव में बदलाव देखा जा रहा है। इंटेलिजेंस ब्यूरो से मिली खबर बाद सरकार ने इसकी जांच शुरू कर दी है। शासन की तरफ से स्थिति की सही जानकारी लेने के लिए 12 सदस्यीय टीम उत्तरकाशी से भेजी गई थी लेकिन  खराब मौसम के कारण टीम गंगोत्री से करीब दो किलोमीटर आगे कनखू बैरियर से वापस लौट आई। मौसम में खराबी के कारण हेलीकाॅप्टर से इसकी रेकी भी नहीं की जा सकी।

सेटेलाइट इमेज से हुई तस्दीक

गौरतलब है कि उत्तराखंड सरकार को खूफिया रिपोर्ट मिली थी कि भारत-चीन सीमा पर किसी स्थान पर भूस्खलन हुआ है। इस सिलसिले में एक सेटेलाइट इमेज भी शासन को उपलब्ध कराई गई। इमेज मिलने के बाद काफी अफरा-तफरी मची और सभी जिलाधिकारियों को अलर्ट जारी किया गया। इसके साथ ही अधिकारियों को मौके पर भेजा गया। उत्तरकाशी एवं टिहरी जिले के डीएम को खास निर्देश दिए गए हैं। बता दें कि सेटेलाइट इमेज का परीक्षण करने के बाद पता चला कि गोमुख के पास भूस्खलन हुआ है।

ये भी पढ़ें - राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था को सुधारने की कवायद तेज, 700 नर्सों की जल्द होगी भर्ती


दोबारा जाएगी टीम

आपको बता दें कि आपदा प्रबंधन सचिव अमित नेगी ने बताया कि भूस्खलन की वजह से भागीरथी के रुख में थोड़ा बदलाव हुआ है लेकिन वहां झील नहीं बनी है। नदी के प्रवाह की लगातार माॅनीटरिंग की जा रही है। उत्तरकाशी के जिलाधिकारी ने बताया कि मौसम साफ होने के बाद नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (निम) के दल के साथ टीम को दोबारा गोमुख भेजा जाएगा। डीएम के अनुसार टीम के सदस्यों ने यह भी जानकारी दी कि कहीं भी भागीरथी का पानी मटमैला होने के संकेत नहीं मिले हैं। 

Todays Beets: