Monday, January 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

उत्तराखंड में गोमुख के पास हुआ भूस्खलन, भागीरथी के रुख में हुआ बदलाव

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में गोमुख के पास हुआ भूस्खलन, भागीरथी के रुख में हुआ बदलाव

देहरादून। उत्तराखंड में भारत-चीन सीमा पर गोमुख के करीब हुए भूस्खलन की वजह से भागीरथी के बहाव में बदलाव देखा जा रहा है। इंटेलिजेंस ब्यूरो से मिली खबर बाद सरकार ने इसकी जांच शुरू कर दी है। शासन की तरफ से स्थिति की सही जानकारी लेने के लिए 12 सदस्यीय टीम उत्तरकाशी से भेजी गई थी लेकिन  खराब मौसम के कारण टीम गंगोत्री से करीब दो किलोमीटर आगे कनखू बैरियर से वापस लौट आई। मौसम में खराबी के कारण हेलीकाॅप्टर से इसकी रेकी भी नहीं की जा सकी।

सेटेलाइट इमेज से हुई तस्दीक

गौरतलब है कि उत्तराखंड सरकार को खूफिया रिपोर्ट मिली थी कि भारत-चीन सीमा पर किसी स्थान पर भूस्खलन हुआ है। इस सिलसिले में एक सेटेलाइट इमेज भी शासन को उपलब्ध कराई गई। इमेज मिलने के बाद काफी अफरा-तफरी मची और सभी जिलाधिकारियों को अलर्ट जारी किया गया। इसके साथ ही अधिकारियों को मौके पर भेजा गया। उत्तरकाशी एवं टिहरी जिले के डीएम को खास निर्देश दिए गए हैं। बता दें कि सेटेलाइट इमेज का परीक्षण करने के बाद पता चला कि गोमुख के पास भूस्खलन हुआ है।

ये भी पढ़ें - राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था को सुधारने की कवायद तेज, 700 नर्सों की जल्द होगी भर्ती


दोबारा जाएगी टीम

आपको बता दें कि आपदा प्रबंधन सचिव अमित नेगी ने बताया कि भूस्खलन की वजह से भागीरथी के रुख में थोड़ा बदलाव हुआ है लेकिन वहां झील नहीं बनी है। नदी के प्रवाह की लगातार माॅनीटरिंग की जा रही है। उत्तरकाशी के जिलाधिकारी ने बताया कि मौसम साफ होने के बाद नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (निम) के दल के साथ टीम को दोबारा गोमुख भेजा जाएगा। डीएम के अनुसार टीम के सदस्यों ने यह भी जानकारी दी कि कहीं भी भागीरथी का पानी मटमैला होने के संकेत नहीं मिले हैं। 

Todays Beets: