Sunday, January 21, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

‘इंद्रदेव’ की नाराजगी ने सरकार की बढ़ाईं मुश्किलें, राज्य में बढ़ रहे सूखे के आसार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
‘इंद्रदेव’ की नाराजगी ने सरकार की बढ़ाईं मुश्किलें, राज्य में बढ़ रहे सूखे के आसार

देहरादून। देश के ज्यादातर राज्यों के साथ उत्तराखंड में भी इन दिनों भीषण ठंड पड़ रही है। ठंड और बर्फबारी ने पयर्टन व्यवसाय से जुड़े लोगों के चेहरे पर जहां खुशी ला दी है वहीं बारिश ने होने की वजह से किसानों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। बता दें कि सर्दियों में अक्टूबर से दिसंबर तक बारिश सामान्य से 76 फीसद कम रही, जबकि इस बार जनवरी में बूंद भी नहीं बरसी और 20 जनवरी तक बारिश के फिलहाल कोई संकेत भी नजर नहीं आ रहे हैं। ऐसे में प्रदेश में सूखे की संभावना काफी बढ़ गई है। 

कृषि अधिकारियों को निर्देश

गौरतलब है कि राज्य में बारिश की कमी के चलते सरकार की चिंताएं भी बढ़ गई हैं। कृषि मंत्री सुबोध उनियाल के अनुसार अभी कहीं से कोई शिकायत तो नहीं मिली है लेकिन मौसम के असर के मद्देनजर सभी जिलों के मुख्य कृषि अधिकारियों को सर्वे के निर्देश जारी किए जा रहे हैं। वहीं, गढ़वाल एवं कुमाऊं मंडलों में राजस्व विभाग की ओर से मौसम आधारित नियमित सर्वे भी शुरू किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें - राज्य में महिलाओं का होगा सशक्तिकरण, राष्ट्रीय बालिका दिवस पर मेधावी छात्राओं को टेबलेट देगी सरकार


बारिश की संभावना नहीं

आपको बता दें कि सर्दियों में पैदा होने वाली रबी की फसल और सेब की बेहतर पैदावार काश्तकारों के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।  मौसम विभाग के आंकड़ों की बात करें तो आमतौर पर सर्दियों में सूबे में 1 अक्टूबर से 31 दिसंबर तक 85.6 मिमी बारिश होती है जबकि इस बार इसमें 76 फीसद की कमी रही। यही नहीं, जनवरी का पहला हफ्ता गुजरने के बाद भी बारिश का कोई नामोनिशान नहीं है। देहरादून मौसम विभाग के निदेशक विक्रम सिंह ने बताया कि फिलहाल 20 जनवरी तक बारिश की कोई संभावना नहीं है। 

Todays Beets: