Tuesday, June 19, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

‘इंद्रदेव’ की नाराजगी ने सरकार की बढ़ाईं मुश्किलें, राज्य में बढ़ रहे सूखे के आसार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
‘इंद्रदेव’ की नाराजगी ने सरकार की बढ़ाईं मुश्किलें, राज्य में बढ़ रहे सूखे के आसार

देहरादून। देश के ज्यादातर राज्यों के साथ उत्तराखंड में भी इन दिनों भीषण ठंड पड़ रही है। ठंड और बर्फबारी ने पयर्टन व्यवसाय से जुड़े लोगों के चेहरे पर जहां खुशी ला दी है वहीं बारिश ने होने की वजह से किसानों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। बता दें कि सर्दियों में अक्टूबर से दिसंबर तक बारिश सामान्य से 76 फीसद कम रही, जबकि इस बार जनवरी में बूंद भी नहीं बरसी और 20 जनवरी तक बारिश के फिलहाल कोई संकेत भी नजर नहीं आ रहे हैं। ऐसे में प्रदेश में सूखे की संभावना काफी बढ़ गई है। 

कृषि अधिकारियों को निर्देश

गौरतलब है कि राज्य में बारिश की कमी के चलते सरकार की चिंताएं भी बढ़ गई हैं। कृषि मंत्री सुबोध उनियाल के अनुसार अभी कहीं से कोई शिकायत तो नहीं मिली है लेकिन मौसम के असर के मद्देनजर सभी जिलों के मुख्य कृषि अधिकारियों को सर्वे के निर्देश जारी किए जा रहे हैं। वहीं, गढ़वाल एवं कुमाऊं मंडलों में राजस्व विभाग की ओर से मौसम आधारित नियमित सर्वे भी शुरू किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें - राज्य में महिलाओं का होगा सशक्तिकरण, राष्ट्रीय बालिका दिवस पर मेधावी छात्राओं को टेबलेट देगी सरकार


बारिश की संभावना नहीं

आपको बता दें कि सर्दियों में पैदा होने वाली रबी की फसल और सेब की बेहतर पैदावार काश्तकारों के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।  मौसम विभाग के आंकड़ों की बात करें तो आमतौर पर सर्दियों में सूबे में 1 अक्टूबर से 31 दिसंबर तक 85.6 मिमी बारिश होती है जबकि इस बार इसमें 76 फीसद की कमी रही। यही नहीं, जनवरी का पहला हफ्ता गुजरने के बाद भी बारिश का कोई नामोनिशान नहीं है। देहरादून मौसम विभाग के निदेशक विक्रम सिंह ने बताया कि फिलहाल 20 जनवरी तक बारिश की कोई संभावना नहीं है। 

Todays Beets: