Saturday, December 15, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

‘इंद्रदेव’ की नाराजगी ने सरकार की बढ़ाईं मुश्किलें, राज्य में बढ़ रहे सूखे के आसार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
‘इंद्रदेव’ की नाराजगी ने सरकार की बढ़ाईं मुश्किलें, राज्य में बढ़ रहे सूखे के आसार

देहरादून। देश के ज्यादातर राज्यों के साथ उत्तराखंड में भी इन दिनों भीषण ठंड पड़ रही है। ठंड और बर्फबारी ने पयर्टन व्यवसाय से जुड़े लोगों के चेहरे पर जहां खुशी ला दी है वहीं बारिश ने होने की वजह से किसानों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। बता दें कि सर्दियों में अक्टूबर से दिसंबर तक बारिश सामान्य से 76 फीसद कम रही, जबकि इस बार जनवरी में बूंद भी नहीं बरसी और 20 जनवरी तक बारिश के फिलहाल कोई संकेत भी नजर नहीं आ रहे हैं। ऐसे में प्रदेश में सूखे की संभावना काफी बढ़ गई है। 

कृषि अधिकारियों को निर्देश

गौरतलब है कि राज्य में बारिश की कमी के चलते सरकार की चिंताएं भी बढ़ गई हैं। कृषि मंत्री सुबोध उनियाल के अनुसार अभी कहीं से कोई शिकायत तो नहीं मिली है लेकिन मौसम के असर के मद्देनजर सभी जिलों के मुख्य कृषि अधिकारियों को सर्वे के निर्देश जारी किए जा रहे हैं। वहीं, गढ़वाल एवं कुमाऊं मंडलों में राजस्व विभाग की ओर से मौसम आधारित नियमित सर्वे भी शुरू किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें - राज्य में महिलाओं का होगा सशक्तिकरण, राष्ट्रीय बालिका दिवस पर मेधावी छात्राओं को टेबलेट देगी सरकार


बारिश की संभावना नहीं

आपको बता दें कि सर्दियों में पैदा होने वाली रबी की फसल और सेब की बेहतर पैदावार काश्तकारों के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।  मौसम विभाग के आंकड़ों की बात करें तो आमतौर पर सर्दियों में सूबे में 1 अक्टूबर से 31 दिसंबर तक 85.6 मिमी बारिश होती है जबकि इस बार इसमें 76 फीसद की कमी रही। यही नहीं, जनवरी का पहला हफ्ता गुजरने के बाद भी बारिश का कोई नामोनिशान नहीं है। देहरादून मौसम विभाग के निदेशक विक्रम सिंह ने बताया कि फिलहाल 20 जनवरी तक बारिश की कोई संभावना नहीं है। 

Todays Beets: