Thursday, February 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

उत्तराखंड में चलने वाले मदरसों में बड़े पैमाने पर अनियमितता, मदरसा बोर्ड की तरफ से जांच शुरू 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में चलने वाले मदरसों में बड़े पैमाने पर अनियमितता, मदरसा बोर्ड की तरफ से जांच शुरू 

देहरादून। उत्तराखंड में चलने वाले मदरसों में बड़े पैमाने पर अनियमितता की बातें सामने आ रही हैं। मदरसा बोर्ड की तरह से कराई जा रही जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि मदरसों में जितने छात्र हैं उनसे ज्यादा के लिए मिड डे मील मंगाया जा रहा है वहीं दूसरी तरफ वहां कार्यरत शिक्षकों में से अधिकांश के पास शिक्षा विभाग द्वारा तय डिग्री भी नहीं है। हालांकि अभी जांच प्रक्रिया जारी है और बोर्ड का कहना है कि जांच पूरी होने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। अब बदलते जमाने के साथ मदरसा बोर्ड ने भी राज्य के मदरसों को हाईटेक बनाने की ओर कदम बढ़ाए हैं। इस कड़ी में अब अगले शिक्षण सत्र से छात्रों को परीक्षा के लिए ऑनलाइन नामांकन करना होगा। इसके लिए उत्तराखंड मदरसा बोर्ड ने सॉफ्टवेयर तैयार कर लिया है।

शिक्षकों के पास डिग्री नहीं

गौरतलब है कि राज्य के विभिन्न जिलों हरिद्वार, देहरादून, नैनीताल और ऊधमसिंह नगर के मदरसों में मिड डे मील के आवंटन में अनियमितता बरती जा रही है। मदरसों में छात्र संख्या कम होने के बावजूद राशन अधिक छात्रों पर आवंटित हो रहा है। इसके साथ ही मदरसों में शिक्षकों के पास शिक्षा विभाग द्वारा तय डिग्री भी नहीं है। शिकायत के बाद बोर्ड के निदेशक कैप्टन आलोक शेखर तिवारी ने जांच शुरू कर दी है।

ये भी पढ़ें - गढ़वाल केन्द्रीय विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले छात्र ध्यान दें, 15 दिसंबर से होंगी परीक्षाएं


रजिस्टर्ड छात्रों से कम मिले

आपको बता दें कि मदरसा बोर्ड द्वारा की जा रही जांच के प्रथम चरण में 8 मदरसों की जांच की गई तो वहां बड़ी अनियमितता सामने आई है। दून के रायपुर इलाके के मदरसे में 125 छात्र का नाम रजिस्टर है लेकिन वहां 99 छात्र ही मौजूद मिले, रायपुर के ही दूसरे मदरसे में छात्र संख्या 142 दर्ज थी, जबकि वहां मात्र 86 छात्र उपस्थित मिले। कैप्टन आलोक शेखर तिवारी ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है इसके बाद कार्रवाई की जाएगी।  

 

Todays Beets: