Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

उत्तराखंड में चलने वाले मदरसों में बड़े पैमाने पर अनियमितता, मदरसा बोर्ड की तरफ से जांच शुरू 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड में चलने वाले मदरसों में बड़े पैमाने पर अनियमितता, मदरसा बोर्ड की तरफ से जांच शुरू 

देहरादून। उत्तराखंड में चलने वाले मदरसों में बड़े पैमाने पर अनियमितता की बातें सामने आ रही हैं। मदरसा बोर्ड की तरह से कराई जा रही जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि मदरसों में जितने छात्र हैं उनसे ज्यादा के लिए मिड डे मील मंगाया जा रहा है वहीं दूसरी तरफ वहां कार्यरत शिक्षकों में से अधिकांश के पास शिक्षा विभाग द्वारा तय डिग्री भी नहीं है। हालांकि अभी जांच प्रक्रिया जारी है और बोर्ड का कहना है कि जांच पूरी होने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। अब बदलते जमाने के साथ मदरसा बोर्ड ने भी राज्य के मदरसों को हाईटेक बनाने की ओर कदम बढ़ाए हैं। इस कड़ी में अब अगले शिक्षण सत्र से छात्रों को परीक्षा के लिए ऑनलाइन नामांकन करना होगा। इसके लिए उत्तराखंड मदरसा बोर्ड ने सॉफ्टवेयर तैयार कर लिया है।

शिक्षकों के पास डिग्री नहीं

गौरतलब है कि राज्य के विभिन्न जिलों हरिद्वार, देहरादून, नैनीताल और ऊधमसिंह नगर के मदरसों में मिड डे मील के आवंटन में अनियमितता बरती जा रही है। मदरसों में छात्र संख्या कम होने के बावजूद राशन अधिक छात्रों पर आवंटित हो रहा है। इसके साथ ही मदरसों में शिक्षकों के पास शिक्षा विभाग द्वारा तय डिग्री भी नहीं है। शिकायत के बाद बोर्ड के निदेशक कैप्टन आलोक शेखर तिवारी ने जांच शुरू कर दी है।

ये भी पढ़ें - गढ़वाल केन्द्रीय विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले छात्र ध्यान दें, 15 दिसंबर से होंगी परीक्षाएं


रजिस्टर्ड छात्रों से कम मिले

आपको बता दें कि मदरसा बोर्ड द्वारा की जा रही जांच के प्रथम चरण में 8 मदरसों की जांच की गई तो वहां बड़ी अनियमितता सामने आई है। दून के रायपुर इलाके के मदरसे में 125 छात्र का नाम रजिस्टर है लेकिन वहां 99 छात्र ही मौजूद मिले, रायपुर के ही दूसरे मदरसे में छात्र संख्या 142 दर्ज थी, जबकि वहां मात्र 86 छात्र उपस्थित मिले। कैप्टन आलोक शेखर तिवारी ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है इसके बाद कार्रवाई की जाएगी।  

 

Todays Beets: