Tuesday, December 18, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

उत्तराखंड विधानसभा के 300 मीटर के दायरे में धारा 144 लागू, भारी संख्या में पुलिस तैनात

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड विधानसभा के 300 मीटर के दायरे में धारा 144 लागू, भारी संख्या में पुलिस तैनात

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा का माॅनसून सत्र शुरू हो चुका है। ऐसे में विधानसभा परिसर के 300 मीटर के दायरे में धारा 144 लागू कर दी गई है। देहरादून के जिलाधिकारी मुरुगेशन ने विपक्षी संगठनों के द्वारा धरना प्रदर्शन या विरोध को रोका जा सके। बता दें कि जिलाधिकारी ने कहा कि यह आदेश 18 सितंबर से विधानसभा सत्र की समाप्ति तक प्रभावी रहेंगे। बता दें कि कांग्रेस के द्वारा सत्र के पहले दिन सत्ता पक्ष को घेरने की रणनीति कामयाब नहीं हो पाई और उसने सदन से वाॅकआउट किया। 

गौरतलब है कि विधानसभा सत्र में विपक्षी दल कांग्रेस के द्वारा सरकार को घेरने की कोशिश की गई। उसने राज्य में पेट्रोलियम पदार्थों की बढ़ती कीमतों को कम करने और इसे जीएसटी के दायरे में लाने की मांग की लेकिन संसदीय कार्यमंत्री के जवाब के सामने उनकी तैयारी कमजोर नजर आई। महज सरकारी नीतियों का विरोध करने के मकसद से सदन से वाॅकआउट किया। 

ये भी पढ़ें - छात्रा से दुष्कर्म मामले में शिक्षा विभाग सख्त, सीबीएसई से स्कूल की मान्यता निरस्त करने की सिफारिश


यहां बता दें कि विधानसभा सत्र शुरू होने से पहले विपक्ष का दिखा आक्रामक रुख सदन में पहुंचने के बाद बदला-बदला नजर आया। सदन की कार्यवाही शुरू होने के साथ प्रश्नकाल में विपक्ष ने ट्रेजरी बैंच को घेरने की कोशिश की। विपक्ष के शुरुआती प्रयासों से लगा कि महंगाई पर विपक्ष का कार्य स्थगन प्रस्ताव सत्ता पक्ष को असहज करेगा। लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ, विपक्ष का होमवर्क बिल्कुल कमजोर नजर आया। 

 

Todays Beets: