Saturday, August 18, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

सीबीएसई से संबद्ध स्कूलों के लिए एनसीईआरटी की किताबें लागू करना होगा अनिवार्य, आनाकानी करने वालों पर ‘रासुका’ के तहत होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सीबीएसई से संबद्ध स्कूलों के लिए एनसीईआरटी की किताबें लागू करना होगा अनिवार्य, आनाकानी करने वालों पर ‘रासुका’ के तहत होगी कार्रवाई

देहरादून। आगामी शिक्षा सत्र से राज्य में सीबीएसई से संबद्ध सभी स्कूलों के लिए एनसीईआरटी की किताबें लागू कराने के लिए सरकार ने अपने तेवर सख्त कर दिए हैं। ऐसा नहीं करने वाले स्कूलों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही शिक्षा मंत्री ने देहरादून समेत विभिन्न शहरों में स्कूलों को पार्किंग की व्यवस्था करने के लिए 10 दिन का अल्टीमेटम भी दिया है। 

हीलाहवाली बर्दाश्त नहीं

गौरतलब है कि राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) से प्रदेश में एनसीईआरटी की पुस्तकें लगाने की स्वीकृति मिल चुकी है। एक से दो दिनों के अंदर इसके आदेश जारी कर दिए जाएंगे। शिक्षा मंत्री ने कहा कि ऐसा होने से अभिभावकों का बोझ भी कम होगा। उन्होंने कहा कि प्राईवेट स्कूलों को सख्त हिदायत देते हुए कहा कि यदि कोई स्कूल या प्रकाशक एनसीईआरटी की पुस्तकों से पल्ला झाड़ने की कोशिश की तो यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। 

ये भी पढ़ें - शिक्षा मंत्री के बेटे की शादी कार्ड बांटने के मामले में फंसे अधिकारी हुए बहाल, दोषियों पर होग...


पार्किंग के लिए अल्टीमेटम

आपको बता दें कि स्कूल आने और छुट्टियों के समय सड़कों पर लगने वाले जाम से निजात दिलाने के लिए स्कूलों को 10 दिनों के अंदर पार्किंग की सुविधा सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है। उन्होंने कहा कि स्कूलों के आसपास किसी भी दशा में सड़क पर वाहन खड़े नहीं होंगे और इनका चालान किया जाएगा। साथ ही आदेश न मानने वाले स्कूलों की मान्यता निरस्त करने पर भी विचार किया जाएगा।

 

Todays Beets: