Friday, December 14, 2018

Breaking News

   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||    दिल्ली: TDP नेता वाईएस चौधरी को HC से राहत, गिरफ्तारी पर रोक     ||    पूर्व क्रिकेटर अजहर तेलंगाना कांग्रेस समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए     ||   किसानों को कांग्रेस ने मजबूर और बीजेपी ने मजबूत बनाया: PM मोदी     ||

उपनल नौकरी विवाद के बाद अटकी 117 भर्तियां, परियोजनाओं का समय पर पूरा होना मुश्किल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उपनल नौकरी विवाद के बाद अटकी 117 भर्तियां, परियोजनाओं का समय पर पूरा होना मुश्किल

देहरादून। उपनल के जरिए नौकरी पाने वाले उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष के पुत्र पीयूष अग्रवाल के इस्तीफा देने के बाद अब उपनल के जरिए होने वाली भर्तियां भी लटक गई हैं। यहां बता दें कि जल निगम में ही उपनल के जरिए करीब 117 भर्तियां होने वाली थी लेकिन अब भर्तियों पर हुए विवाद के बाद मामला थोड़ा ठंडा पड़ गया है। इससे इंजीनियरों की कमी से जूझ रहे निगम का काम प्रभावित हो रहा है। शासन की तरफ से वित्तीय कमी का हवाला दिए जाने के बाद आउटसोर्स के जरिए भर्ती करने के निर्देश दिए गए हैं। 

ये भी पढ़ें - प्रदेश में तकनीकी शिक्षा हुई महंगी, छात्रों को करनी होगी जेब ज्यादा ढीली


गौरतलब है कि शासन की तरफ से मिले आदेश के बाद अब निगम के एमडी ने उपनल को पदों का ब्योरा व भर्ती का प्रस्ताव भेजा है। बताया जा रहा है कि इस प्रस्ताव को भेजे हुए 3 महीने बीत चुके हैं लेकिन अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है। जल निगम के एमडी ने बताया कि इंजीनियरों की कमी की वजह से लगातार काम प्रभावित हो रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य में चल रहीं परियोजनाओं को तय समय पर पूरा करने के लिए इंजीनियरों की भर्ती की मांग की गई थी लेकिन उपनल को भर्ती का प्रस्ताव भेजे 3 महीने से ज्यादा हो चुके हैं अब तक कई रिमाइंडर भेजने के बाद भी कोई जवाब नहीं मिला है। ऐसे में अब परियोजनाओं के पूरा होने में देरी होना लाजमी है। 

Todays Beets: