Friday, March 22, 2019

Breaking News

    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||

उपनल नौकरी विवाद के बाद अटकी 117 भर्तियां, परियोजनाओं का समय पर पूरा होना मुश्किल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उपनल नौकरी विवाद के बाद अटकी 117 भर्तियां, परियोजनाओं का समय पर पूरा होना मुश्किल

देहरादून। उपनल के जरिए नौकरी पाने वाले उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष के पुत्र पीयूष अग्रवाल के इस्तीफा देने के बाद अब उपनल के जरिए होने वाली भर्तियां भी लटक गई हैं। यहां बता दें कि जल निगम में ही उपनल के जरिए करीब 117 भर्तियां होने वाली थी लेकिन अब भर्तियों पर हुए विवाद के बाद मामला थोड़ा ठंडा पड़ गया है। इससे इंजीनियरों की कमी से जूझ रहे निगम का काम प्रभावित हो रहा है। शासन की तरफ से वित्तीय कमी का हवाला दिए जाने के बाद आउटसोर्स के जरिए भर्ती करने के निर्देश दिए गए हैं। 

ये भी पढ़ें - प्रदेश में तकनीकी शिक्षा हुई महंगी, छात्रों को करनी होगी जेब ज्यादा ढीली


गौरतलब है कि शासन की तरफ से मिले आदेश के बाद अब निगम के एमडी ने उपनल को पदों का ब्योरा व भर्ती का प्रस्ताव भेजा है। बताया जा रहा है कि इस प्रस्ताव को भेजे हुए 3 महीने बीत चुके हैं लेकिन अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है। जल निगम के एमडी ने बताया कि इंजीनियरों की कमी की वजह से लगातार काम प्रभावित हो रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य में चल रहीं परियोजनाओं को तय समय पर पूरा करने के लिए इंजीनियरों की भर्ती की मांग की गई थी लेकिन उपनल को भर्ती का प्रस्ताव भेजे 3 महीने से ज्यादा हो चुके हैं अब तक कई रिमाइंडर भेजने के बाद भी कोई जवाब नहीं मिला है। ऐसे में अब परियोजनाओं के पूरा होने में देरी होना लाजमी है। 

Todays Beets: