Thursday, September 20, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

रामनगर हादसे के बाद यातायात को लेकर सख्त हुई सरकार, अब ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन पर जाना होगा जेल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रामनगर हादसे के बाद यातायात को लेकर सख्त हुई सरकार, अब ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन पर जाना होगा जेल

देहरादून।  रामनगर में पिछले हफ्ते हुए भीषण सड़क हादसे में 48 लोगों की मौत के बाद उत्तराखंड सरकार मोटर व्हीकल एक्ट को लेकर काफी सख्त हो गई है। प्रदेश में अब यातायात नियमों के उल्लंघन पर मोटर व्हीकल एक्ट के तहत कार्रवाई के साथ आपराधिक मुकदमा भी दर्ज किया जाएगा। राज्य के परिवहन सचिव के द्वारा इसके आदेश जारी किए गए हैं। यहां बता दें कि राज्य मंे अब ओवरलोडिंग करने, वाहन चलाने के दौरान फोन पर बात करने, ओवर स्पीड, शराब पीकर वाहन चलाने और लाल बत्ती क्राॅस करने पर परिवहन विभाग का प्रवर्तन दल अब आईपीसी की विभिन्न धराओं के तहत आपराधिक मुकदमा दर्ज करने के लिए थानों में तहरीर देगा। इसके बाद पुलिस आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करेगी।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड के ओलंपियन ‘मनीष’ जकार्ता में दिखाएंगे अपना कमाल, 18वें एशियन गेम्स के लिए हुआ चयन


गौरतलब है कि इन लोगों के खिलाफ आईपीसी के तहत कार्रवाई की जाएगी। दोष साबित होने पर उन्हें गिरफ्तार कर जेल भी भेजा जा सकता है। यहां बता दें कि रामनगर में हुए हादसे के बाद राज्य की परिवहन व्यवस्था को लेकर सवाल उठने लगे थे। पुलिस का कहना है कि यातायात के नियमों का पालन कराने की जिम्मेदारी उसकी है तो उसे ज्यादा अधिकार भी मिलना चाहिए। इसके लिए शासन के पास अब प्रस्ताव भेजा गया है।  

Todays Beets: