Tuesday, October 23, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

मनमानी फीस वसूलने वाले निजी मेडिकल काॅलेजों की खैर नहीं, देना होगा 10 लाख का जुर्माना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मनमानी फीस वसूलने वाले निजी मेडिकल काॅलेजों की खैर नहीं, देना होगा 10 लाख का जुर्माना

देहरादून। राज्य में चल रहे निजी नर्सिंग काॅलेजों को अब अंतरिम फीस घोषित करना होगा। काॅलेजों द्वारा प्रवेश एवं शुल्क नियामक समिति की बार-बार हिदायतों की अनदेखी करने के बाद अब उन्हें नोटिस जारी कर दिया गया है। बड़ी बात यह है कि अहम बात ये है कि प्रवेश एवं शुल्क नियामक समिति की ओर से तय फीस से अधिक फीस वसूलने पर कॉलेजों को 10 लाख रुपये का जुर्माना अदा करना पड़ेगा। 

निर्देशों की अनदेखी

गौरतलब है कि उत्तराखंड में करीब 25 निजी पैरामेडिकल काॅलेज चल रहे हैं और इनमें से ज्यादातर छात्रों से मनमानी फीस की वसूली कर रहे हैं। प्रवेश एवं शुल्क समिति के द्वारा बार-बार निर्देश देने के बाद भी काॅलेज अपनी मनमानी से बाज नहीं आ रहे थे अब समिति ने ऐसे कॉलेजों को झटका दिया है। पिछले दिनों समिति, निजी नर्सिंग कॉलेजों के डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के साथ ही पोस्ट बीएससी नर्सिग एवं एमएससी नर्सिंग पाठ्यक्रमों के लिए अंतरिम शुल्क तय कर चुकी है। 

ये भी पढ़ें - आईएमए की ‘पीओपी’ से पहले सेलाकुई में ‘चीनी’ नागरिक के पकड़े जाने से हड़कंप, पुलिस जांच में जुटी 

मनमानी फीस वसूली


आपको बता दें कि प्रवेश एवं शुल्क समिति ने निजी नर्सिंग काॅलेजों को कई बार नोटिस भेजे लेकिन इन काॅलेजों ने फीस कमेटी के समक्ष अपने प्रस्ताव नहीं भेजे थे। समिति के अध्यक्ष सेवानिवृत्त न्यायाधीश गुरमीत राम ने आदेशों की नाफरमानी करने वाले कॉलेजों के खिलाफ सख्त रुख अपनाने के निर्देश सरकार को दिए हैं। बता दें कि डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के लिए तो समिति पहले ही फीस तय कर चुकी है, लेकिन नर्सिंग के पोस्ट बेसिक बीएससी व एमएससी पाठ्यक्रमों को शुरू करने के बावजूद पहली दफा भी फीस तय कराने के बजाय काॅलेज छात्रों से मनमाना फीस वसूलते रहे।  

अलग-अलग नोटिस जारी

यहां बता दें कि नोटिस जारी होने के बाद चिकित्सा शिक्षा को कॉलेजों की ओर से आपत्ति संबंधी कोई प्रस्ताव नहीं मिला है। चिकित्सा शिक्षा निदेशक डॉ आशुतोष सयाना ने कहा कि निजी कॉलेजों को अलग-अलग नोटिस जारी किए गए हैं और उन्हें 1 महीने का समय दिया गया है। इस समय में अगर वे प्रस्ताव नहीं देते हैं तो  समिति अंतरिम फीस को ही अंतिम फीस तय कर देगी। इसके बाद तय फीस से ज्यादा वसूलने वाले काॅलेजों पर कार्रवाई की जाएगी और उन्हें 10 लाख रुपये का जुर्माना भी भरना पड़ेगा।  

 

Todays Beets: