Wednesday, December 13, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

पद की अनदेखी करना केन्द्रीय विश्वविद्यालय के कुलसचिव को पड़ा महंगा, पद से हटाए गए

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पद की अनदेखी करना केन्द्रीय विश्वविद्यालय के कुलसचिव को पड़ा महंगा, पद से हटाए गए

श्रीनगर। छात्रों के भविष्य को देखते हुए हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय श्रीनगर के कुलसचिव डॉ. एके झा को निलंबित कर दिया गया है। सोमवार देर शाम कुलपति जवाहर लाल कौल ने इस आशय का आदेश जारी किया। उन्होंने बताया कि एके झा का न तो अवकाश स्वीकृत किया गया है और न ही वह ड्यूटी ज्वाइन कर रहे हैं। उनके विश्वविद्यालय नहीं आने की वजह से कार्य बहुत प्रभावित हो रहा है उन्होंने इस मामले को लेकर एक जांच कमेटी भी गठित की है। बता दें कि इससे पहले भी एके झा को दो बार हटाया जा चुका है।

मेडिकल अवकाश बढ़ाने की सूचना

गौरतलब है कि इससे पहले दून विश्वविद्यालय के इंचार्ज रजिस्ट्रार को भी हटाया गया था। बता दें कि केन्द्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर कौल ने बताया कि कुलसचिव झा मेडिकल अवकाश पर थे और उन्हें 23 नवम्बर को डयूटी ज्वाइन करनी थी लेकिन वे नहीं आए। यूनिवर्सिटी आने के बजाय उन्होंने 22 नवम्बर की रात ई-मेल कर अवकाश बढ़ाने की सूचना दी। कुलपति ने बताया कि चूंकि विश्वविद्यालय के एकेडमिक आडिट के लिए टीम को आना था इस वजह से उनका अवकाश बढ़ाना संभव नहीं था। ऐसे में उन्हें तुरंत ज्वाइन करने के निर्देश दिए गए लेकिन उन्होंने ज्वाइन नहीं किया। कुलपति प्रोफेसर कौल ने उनपर यह भी आरोप लगाया कि इससे पहले भी वह लंबे समय तक अवकाश के नाम पर कार्यालय नहीं आए थे।

ये भी पढ़ें - उत्तराखंड में अब नहीं होगी एएनएम की पढ़ाई, रोजगार के कम होते अवसर की वजह से लिया फैसला


समय देने के बाद भी नहीं आए

आपको बता दें कि प्रो. कौल के अनुसार कुलसचिव ने 4 दिसम्बर को डयूटी ज्वाइन करने की सूचना दी थी लेकिन शाम 5 बजे तक भी जब वह नहीं आए तो विश्वविद्यालय हित में कार्रवाई करनी पड़ी।

 

Todays Beets: