Thursday, August 16, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

विशिष्ट बीटीसी शिक्षकों को मिला विपक्ष का साथ, नेता ने सदन में मुद्दा उठाने का दिया आश्वासन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
विशिष्ट बीटीसी शिक्षकों को मिला विपक्ष का साथ, नेता ने सदन में मुद्दा उठाने का दिया आश्वासन

देहरादून। विभागीय लापरवाही की वजह से अप्रशिक्षितों की श्रेणी में आने के बाद विशिष्ट बीटीसी कर चुके शिक्षक आंदोलन कर रहे हैं। जूनियर हाईस्कूल के शिक्षकों के बाद अब उन्हें विपक्षी पार्टी कांग्रेस का भी समर्थन मिल गया है। नेता प्रतिपक्ष हंदिरा हृदयेश शिक्षा निदेशालय पर आंदोलनरत शिक्षकों के बीच पहुंची और उन्हें समर्थन देने की बात कही है। बता दें कि उत्तराखंड प्राथमिक शिक्षक संघ गत 22 नवंबर से निदेशालय पर जिलेवार धरना-प्रदर्शन कर रहा है। 

सदन में उठेगा मुद्दा

गौरतलब है कि राज्य सरकार ने खुद शिक्षकों को विशिष्ट बीटीसी का कोर्स करवाया था और उन्हें प्रशिक्षित वेतनमान पर नियुक्ति दी गई। अब एनटीसीई ने इसकी मान्यता को खत्म कर दिया है। इसके बाद शिक्षकों ने सरकार के प्रति विरोध जताना शुरू कर दिया है। अब ऐसा लगता है कि यह मामला राजनीतिक होने वाला है। नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने इन्हें समर्थन दिया है। उन्होंने आश्वासन दिया कि कांग्रेस यह मुद्दा विधानसभा और उत्तर प्रदेश के राज्यसभा सांसद प्रमोद तिवारी के माध्यम से संसद में उठाएगी। 

ये भी पढ़ें - नैनी झील के अस्तित्व पर मंडराया खतरा, 10 बार पहुंची शून्य के स्तर से नीचे


शिक्षक हुए अयोग्य

आपको बता दें कि इस दौरान शिक्षकों ने नेता प्रतिपक्ष से कहा कि 3 सितंबर 2001 के बाद नियुक्त और सरकारी संस्थान से विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षण प्राप्त बीएड, सीपीएड, डीपीएड, बीपीएड, मृतक आश्रित और उर्दू शिक्षकों को डीएलएड-ब्रिज कोर्स से बाहर रखा जाए। यह शिक्षक 3 से 17 साल की सेवाएं दे चुके हैं और अब राष्ट्रीय अध्यापक परिषद की ओर से राज्य के जिला शिक्षा प्रशिक्षण संस्थानों को मान्यता न होने के कारण विशिष्ट बीटीसी के प्रशिक्षण को अयोग्य घोषित कर दिया गया है।  

Todays Beets: