Tuesday, October 23, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

विशिष्ट बीटीसी शिक्षकों को मिला विपक्ष का साथ, नेता ने सदन में मुद्दा उठाने का दिया आश्वासन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
विशिष्ट बीटीसी शिक्षकों को मिला विपक्ष का साथ, नेता ने सदन में मुद्दा उठाने का दिया आश्वासन

देहरादून। विभागीय लापरवाही की वजह से अप्रशिक्षितों की श्रेणी में आने के बाद विशिष्ट बीटीसी कर चुके शिक्षक आंदोलन कर रहे हैं। जूनियर हाईस्कूल के शिक्षकों के बाद अब उन्हें विपक्षी पार्टी कांग्रेस का भी समर्थन मिल गया है। नेता प्रतिपक्ष हंदिरा हृदयेश शिक्षा निदेशालय पर आंदोलनरत शिक्षकों के बीच पहुंची और उन्हें समर्थन देने की बात कही है। बता दें कि उत्तराखंड प्राथमिक शिक्षक संघ गत 22 नवंबर से निदेशालय पर जिलेवार धरना-प्रदर्शन कर रहा है। 

सदन में उठेगा मुद्दा

गौरतलब है कि राज्य सरकार ने खुद शिक्षकों को विशिष्ट बीटीसी का कोर्स करवाया था और उन्हें प्रशिक्षित वेतनमान पर नियुक्ति दी गई। अब एनटीसीई ने इसकी मान्यता को खत्म कर दिया है। इसके बाद शिक्षकों ने सरकार के प्रति विरोध जताना शुरू कर दिया है। अब ऐसा लगता है कि यह मामला राजनीतिक होने वाला है। नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने इन्हें समर्थन दिया है। उन्होंने आश्वासन दिया कि कांग्रेस यह मुद्दा विधानसभा और उत्तर प्रदेश के राज्यसभा सांसद प्रमोद तिवारी के माध्यम से संसद में उठाएगी। 

ये भी पढ़ें - नैनी झील के अस्तित्व पर मंडराया खतरा, 10 बार पहुंची शून्य के स्तर से नीचे


शिक्षक हुए अयोग्य

आपको बता दें कि इस दौरान शिक्षकों ने नेता प्रतिपक्ष से कहा कि 3 सितंबर 2001 के बाद नियुक्त और सरकारी संस्थान से विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षण प्राप्त बीएड, सीपीएड, डीपीएड, बीपीएड, मृतक आश्रित और उर्दू शिक्षकों को डीएलएड-ब्रिज कोर्स से बाहर रखा जाए। यह शिक्षक 3 से 17 साल की सेवाएं दे चुके हैं और अब राष्ट्रीय अध्यापक परिषद की ओर से राज्य के जिला शिक्षा प्रशिक्षण संस्थानों को मान्यता न होने के कारण विशिष्ट बीटीसी के प्रशिक्षण को अयोग्य घोषित कर दिया गया है।  

Todays Beets: