Saturday, October 20, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

उत्तरकाशी में लग रहा प्रवासी पक्षियों का जमावड़ा, ईको टूरिज्म को मिलेगा बढ़ावा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तरकाशी में लग रहा प्रवासी पक्षियों का जमावड़ा, ईको टूरिज्म को मिलेगा बढ़ावा

उत्तरकाशी। अगर आप पक्षियों को कलरव करते हुए सुनना चाहते हैं और उन्हें पानी में अठखेलियां करते हुए देखना चाहते हैं तो उत्तराखंड आइए। यह बात सबको पता है कि प्रकृति ने प्रदेश को बेपनाह खूबसूरती बख्शी है। इसके हर हिस्से में प्राकृतिक सुन्दरता बिखरी है जिसे देखने के लिए दूर-दूर से सैलानी यहां आते हैं। खासकर मनेरी भाली जल-विद्युत परियोजना प्रथम और द्वितीय की झील तो इन दिनों जल मुर्गी समेत तमाम प्रजातियों के परिंदों का बसेरा बनी हुई है। 

प्रवासी पक्षी का जमावड़ा

गौरतलब है कि सर्दियों के आगमन के साथ ही यहां प्रवासी पक्षियों का झुंड आना शुरू हो जाता है। उच्च हिमालयी क्षेत्रों में रहने वाले परिंदे भी यहां के झीलों में अपना बसेरा बना लेते हैं। पिछले कुछ समय में यहां आने वाले परिंदों की संख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है, खासकर मनेरी-भाली परियोजना प्रथम वाली झील में बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षी आ रहे हैं।

ये भी पढ़ें - सातवें वेतनमान को लेकर अशासकीय काॅलेजों के शिक्षक सड़कों पर, मांगे पूरी नहीं होने पर आंदोलन की...


रोजगार के अवसर

आपको बता दें कि उत्तरकाशी प्रभाग के वनाधिकारी संदीप कुमार का कहना है कि बर्ड वाॅचिंग इको टूरिज्म का बेहतरीन उदाहरण है। इसे और विकसित करने के लिए योजना बनाई जा रही है ताकि स्थानीय युवाओं को गाइड के तौर पर प्रशिक्षित किया जा सके। 

इन पक्षियों का होता है दीदार 

जल मुर्गी, सुर्खाब, गर्गानेय डक, स्पॉट बैलड डक, लिटिल ग्रैब, जंगली मुर्गी, मुर्गी, तीतर, प्लम हेडेड पैरेट, स्प्रेडड डव, ग्रीन बीटर, कठफोड़वा, हुदहुद, हिमालयन बुलबुल, रेड वेंटेड बुलबुल, जंगल बबलर, पैराडाइज फ्लाइ कैचर, वेरिडेटर फ्लाइ कैचर, रूफस ट्री पाई, सनबर्ड, कॉमन किंगफिशर और व्हाइट थ्रोटेड किंगफिशर आदि।  

Todays Beets: