Monday, January 22, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

उत्तरकाशी में लग रहा प्रवासी पक्षियों का जमावड़ा, ईको टूरिज्म को मिलेगा बढ़ावा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तरकाशी में लग रहा प्रवासी पक्षियों का जमावड़ा, ईको टूरिज्म को मिलेगा बढ़ावा

उत्तरकाशी। अगर आप पक्षियों को कलरव करते हुए सुनना चाहते हैं और उन्हें पानी में अठखेलियां करते हुए देखना चाहते हैं तो उत्तराखंड आइए। यह बात सबको पता है कि प्रकृति ने प्रदेश को बेपनाह खूबसूरती बख्शी है। इसके हर हिस्से में प्राकृतिक सुन्दरता बिखरी है जिसे देखने के लिए दूर-दूर से सैलानी यहां आते हैं। खासकर मनेरी भाली जल-विद्युत परियोजना प्रथम और द्वितीय की झील तो इन दिनों जल मुर्गी समेत तमाम प्रजातियों के परिंदों का बसेरा बनी हुई है। 

प्रवासी पक्षी का जमावड़ा

गौरतलब है कि सर्दियों के आगमन के साथ ही यहां प्रवासी पक्षियों का झुंड आना शुरू हो जाता है। उच्च हिमालयी क्षेत्रों में रहने वाले परिंदे भी यहां के झीलों में अपना बसेरा बना लेते हैं। पिछले कुछ समय में यहां आने वाले परिंदों की संख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है, खासकर मनेरी-भाली परियोजना प्रथम वाली झील में बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षी आ रहे हैं।

ये भी पढ़ें - सातवें वेतनमान को लेकर अशासकीय काॅलेजों के शिक्षक सड़कों पर, मांगे पूरी नहीं होने पर आंदोलन की...


रोजगार के अवसर

आपको बता दें कि उत्तरकाशी प्रभाग के वनाधिकारी संदीप कुमार का कहना है कि बर्ड वाॅचिंग इको टूरिज्म का बेहतरीन उदाहरण है। इसे और विकसित करने के लिए योजना बनाई जा रही है ताकि स्थानीय युवाओं को गाइड के तौर पर प्रशिक्षित किया जा सके। 

इन पक्षियों का होता है दीदार 

जल मुर्गी, सुर्खाब, गर्गानेय डक, स्पॉट बैलड डक, लिटिल ग्रैब, जंगली मुर्गी, मुर्गी, तीतर, प्लम हेडेड पैरेट, स्प्रेडड डव, ग्रीन बीटर, कठफोड़वा, हुदहुद, हिमालयन बुलबुल, रेड वेंटेड बुलबुल, जंगल बबलर, पैराडाइज फ्लाइ कैचर, वेरिडेटर फ्लाइ कैचर, रूफस ट्री पाई, सनबर्ड, कॉमन किंगफिशर और व्हाइट थ्रोटेड किंगफिशर आदि।  

Todays Beets: