Wednesday, December 19, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

चमोली के कर्णप्रयाग में बादल फटा, 48 घंटे और होगी आफत की बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चमोली के कर्णप्रयाग में बादल फटा, 48 घंटे और होगी आफत की बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट 

देहरादून। उत्तराखंड में चमोली जिले के कर्णप्रयाग में बादल फटने की खबर है। हालांकि अभी इससे कितना नुकसान हुआ है इसका पता नहीं चल पाया है लेकिन राहत और बचाव कार्य जारी है। मौसम विभाग ने अभी 48 घंटे और भारी बारिश होने की चेतावनी देते हुए रेड अलर्ट जारी कर दिया है। चेतावनी के बाद शासन ने भी एडवाइजरी जारी कर सभी जिलाधिकारियों को अतिरिक्त सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं।  मौसम केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार, सोमवार को प्रदेश के लगभग सभी जिलों में बहुत भारी बारिश का अनुमान है। भारी बारिश की आशंका को देखते हुए कई जिलों में सोमवार को स्कूलों कां बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं। 

गौरतलब है कि मौसम विभाग के अनुसार देहरादून, पौड़ी, टिहरी, चमोली, हरिद्वार, नैनीताल, पिथौरागढ़, ऊधमसिंह नगर में कुछ स्थानों पर बहुत भारी बारिश हो सकती है। पहाड़ी और मैदानी दोनों ही इलाकों में रहने वाले लोगों को सावधान रहने की सलाह दी गई है। बता दें कि चमोली जिले के कर्णप्रयाग में बादल फटने की खबर मिली है। हालांकि नुकसान का पता नहीं चला है लेकिन आपदा प्रबंधन टीम राहत और बचाव कार्य मंे जुट गई हैं।

यहां बता दें कि भारी बारिश की चेतावनी के बाद देहरादून, पौड़ी, चमोली में स्कूलों को बंद रखने के आदेश दिए गए हैं। इसके साथ ही सभी जिलों के जिलाधिकारियों को भी अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए गए हैं। 


ये भी पढ़ें - कांवड़ियों की आस्था बनी लोगों के लिए मुसीबत, 50 लोगों की बिजली सप्लाई काटी गई

आपदा प्रबंधन केंद्र की ओर से उच्च हिमालयी क्षेत्रों में पर्यटकों की आवाजाही रोकने, रात 8 बजे से सुबह 5 बजे के दौरान आपातकालीन वाहनों को छोड़कर अन्य का संचालन बंद करने, एसडीआरएफ  और अन्य एजेंसियों को तैयार रहने के निर्देश दिए हैं। 

कई इलाकों में नदियों के उफान की वजह से लोगों का जीना मुहाल हो गया है। ऋषिकेश और हरिद्वार में गंगा नदी पूरे उफान पर है। कई घाटों के पानी में डूब जाने के चलते प्रशासन की ओर से कांवड़ियों के लिए विशेष निगरानी की व्यवस्था की गई है। 

Todays Beets: