Wednesday, June 26, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

डीयू ने सभी कॉलेजों को आवेदकों की फीस लौटाने का दिया आदेश, पढ़े क्या है पूरा मामला...,

अंग्वाल संवाददाता
डीयू ने सभी कॉलेजों को आवेदकों की फीस लौटाने का दिया आदेश, पढ़े क्या है पूरा मामला...,

नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय के 70 से ज्यादा कॉलेजों ने पिछली बार शिक्षकों की नियुक्ति के लिए विज्ञापन जारी किए थे, लेकिन कॉलेजों की तरफ से उन विज्ञापित पदों पर इंटरव्यू नहीं लिये गए। इन विज्ञापित नियुक्तियों पर करीब 2 लाख लोगों ने अपलाई किया था। इस मामले पर अब डीयू के जॉइंट रजिस्ट्रार ने सभी कॉलेजों को लेटर लिखकर विवाद खड़ा न करने को कहा है। साथ ही कॉलेजों को आवेदकों की फीस लौटाने के लिए भी कह दिया गया है। आवेदन की यह फीस 250 से 500 रुपये थी।

 


 

बता दें कि हर कॉलेज ने 15 से 20 विषयों के लिए आवेदन मांगे थे। बड़ी संख्या में लोगों ने इन नियुक्ति के लिए आवेदन किए थे, लेकिन कुछ समस्याओं के चलते इंटरव्यू नहीं हो पाए थे। ऐकडेमिक काउंसिल के सदस्य डॉ हंसराज ने बताया कि इस पूरे मामले को काउंसिल की बैठक में उठाया गया था। यह बात वर्ष 2015 की है, हर कॉलेज के पास 20 से 25 लाख रुपये आवेदन फीस के जमा हो गए थे। कॉलेजों ने यह भी साफ नहीं किया था कि एकत्रित हुए फीस को फंड को कॉलेज के अकाउंट में रखा गया था या नहीं।

Todays Beets: