Sunday, July 12, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

अब साल में 2 बार नहीं एक बार ही होगा ‘नीट’, आॅनलाइन नहीं आॅफलाइन होगी परीक्षा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब साल में 2 बार नहीं एक बार ही होगा ‘नीट’, आॅनलाइन नहीं आॅफलाइन होगी परीक्षा

नई दिल्ली। नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (एनईईटी) अब साल में 2 बार की जगह 1 बार ही होगी। सरकार ने मंगलवार देर शाम इसका फैसला लिया है। केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने कहा कि अब साल में एक बार ही इस परीक्षा का आयोजन किया जाएगा और यह परीक्षा ऑनलाइन की जगह पेन एंड पेपर मोड (ऑफलाइन) में ही आयोजित की जाएगी। बता दें कि जेईई की प्रक्रिया में कोई बदलाव नहीं किया गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा लिखे गए पत्र के बाद मंत्रालय ने इसमें बदलाव किया गया है।

गौरतलब है कि सरकार की ओर से एनईईटी 2019 में होने वाली परीक्षाओं की तारीखों का ऐलान भी कर दिया गया है। केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि विचार करने के बाद यह फैसला लिया गया है कि परीक्षा एक ही बार कराई जाएगी। सरकार ने एनईईटी की परीक्षा आॅनलाइन कराने का फैसला भी वापस ले लिया है अब यह परीक्षा आॅफलाइन कराई जाएगी। 

ये भी पढ़ें - बकरीद के मौके पर भी बाज नहीं आ रहे पत्थरबाज, अनंतनाग में सुरक्षाबलों को बनाया निशाना, 10 लोग घायल 


यहां बता दें कि एनईईटी 2019 के लिए रजिस्ट्रेशन इस साल 1 नवंबर से शुरू होगा। परीक्षा अगले साल 5 मई को आयोजित की जाएगी। इंजीनियरिंग के लिए होने वाला ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जाम (जेईई) में किसी प्रकार का कोई बदलाव नहीं किया गया है। यह परीक्षा साल में 2 बार ही आयोजित की जाएगी। 

 

गौर करने वाली बात है कि एनईईटी  की परीक्षा 2 बार कराने के फैसले को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने मानव संसाधन मंत्रालय को पत्र लिखकर कहा था कि ऐसा होने से छात्रों पर दवाब बढ़ सकता है। इसके साथ ही आॅनलाइन परीक्षा के आयोजन से ग्रामीण इलाकों के छात्रों के प्रभावित  होने की भी बातें कहीं गई थी। स्वास्थ्य मंत्रालय की चिट्ठी पर गौर करने के बाद अब एनईईटी की परीक्षा साल में 1 बार ही कराने का निर्णय लिया गया है।  

Todays Beets: