Sunday, July 12, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

सुप्रीम कोर्ट ने कहा-संयुक्त स्नातक और उच्चतर माध्यमिक स्तर परीक्षा 2017 में हुई गड़बड़ी, परिणाम घोषित करने पर लगाई रोक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट ने कहा-संयुक्त स्नातक और उच्चतर माध्यमिक स्तर परीक्षा 2017 में हुई गड़बड़ी, परिणाम घोषित करने पर लगाई रोक

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को एसएससी की संयुक्त स्नातक परीक्षा 2017 और एसएससी संयुक्त उच्चतर माध्यमिक स्तर परीक्षा, 2017 के रिजल्ट घोषित करने पर रोक लगा दी है। बताया जा रहा है कि कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि पहली नजर में ही इस परीक्षा में गड़बड़ी दिखाई दे रही है। यहां बता दें कि एसएससी की परीक्षा में अनियमितता को लेकर कुछ दिनों पहले बड़ी संख्या में छात्रों ने सड़क पर उतर कर परीक्षा रद्द करने की मांग के साथ सीबीआई से इसकी जांच कराने की मांग की थी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस परीक्षा की वजह से जिन छात्रों को फायदा पहुंचा है उन्हें सेवा में शामिल भी नहीं किया जा सकता है। 

गौरतलब है कि इसी साल फरवरी में आयोजित हुए एसएससी की संयुक्त स्नातक परीक्षा 2017 और एसएससी संयुक्त उच्चतर माध्यमिक स्तर परीक्षा, 2017 में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की शिकायत मिली थी। प्रश्न पत्र के लीक होने के साथ ही छात्रों के द्वारा सामूहिक नकल का दावा किया गया था। इसके बाद बड़ी संख्या में छात्र सड़कों पर उतर गए थे और परीक्षा को रद्द करने की मांग की थी।


ये भी पढ़ें - जेईई और नीट परीक्षा की तैयारी में आर्थिक कमजोरी नहीं बनेगी बाधा, सरकार कराएगी मुफ्त कोचिंग

यहां बता दें कि प्रश्नपत्र लीक करने और छात्रों को नकल कराने के आरोप में सिफी टेक्नोलाॅजीज प्राईवेट लिमिटेड कंपनी का नाम सामने आया था। सीबीआई ने  इस कंपनी के 10 कर्मचारियों समेत 17 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था इनमें वे 7 छात्र भी शामिल हैं जो परीक्षा दे रहे थे। 

Todays Beets: