Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

सुप्रीम कोर्ट ने कहा-संयुक्त स्नातक और उच्चतर माध्यमिक स्तर परीक्षा 2017 में हुई गड़बड़ी, परिणाम घोषित करने पर लगाई रोक

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट ने कहा-संयुक्त स्नातक और उच्चतर माध्यमिक स्तर परीक्षा 2017 में हुई गड़बड़ी, परिणाम घोषित करने पर लगाई रोक

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को एसएससी की संयुक्त स्नातक परीक्षा 2017 और एसएससी संयुक्त उच्चतर माध्यमिक स्तर परीक्षा, 2017 के रिजल्ट घोषित करने पर रोक लगा दी है। बताया जा रहा है कि कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि पहली नजर में ही इस परीक्षा में गड़बड़ी दिखाई दे रही है। यहां बता दें कि एसएससी की परीक्षा में अनियमितता को लेकर कुछ दिनों पहले बड़ी संख्या में छात्रों ने सड़क पर उतर कर परीक्षा रद्द करने की मांग के साथ सीबीआई से इसकी जांच कराने की मांग की थी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस परीक्षा की वजह से जिन छात्रों को फायदा पहुंचा है उन्हें सेवा में शामिल भी नहीं किया जा सकता है। 

गौरतलब है कि इसी साल फरवरी में आयोजित हुए एसएससी की संयुक्त स्नातक परीक्षा 2017 और एसएससी संयुक्त उच्चतर माध्यमिक स्तर परीक्षा, 2017 में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की शिकायत मिली थी। प्रश्न पत्र के लीक होने के साथ ही छात्रों के द्वारा सामूहिक नकल का दावा किया गया था। इसके बाद बड़ी संख्या में छात्र सड़कों पर उतर गए थे और परीक्षा को रद्द करने की मांग की थी।


ये भी पढ़ें - जेईई और नीट परीक्षा की तैयारी में आर्थिक कमजोरी नहीं बनेगी बाधा, सरकार कराएगी मुफ्त कोचिंग

यहां बता दें कि प्रश्नपत्र लीक करने और छात्रों को नकल कराने के आरोप में सिफी टेक्नोलाॅजीज प्राईवेट लिमिटेड कंपनी का नाम सामने आया था। सीबीआई ने  इस कंपनी के 10 कर्मचारियों समेत 17 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था इनमें वे 7 छात्र भी शामिल हैं जो परीक्षा दे रहे थे। 

Todays Beets: