Friday, February 28, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

उत्तराखंड भाजपा में असंतोष की लहर, खुद की जगह 'बाहरियों' को तरजीह देने से नाराज हैं कई नेता 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड भाजपा में असंतोष की लहर, खुद की जगह

देहरादून। उत्तराखंड में अपनी नई सियासी पारी शुरू करने के लिए बीजेपी बेचैन है। पार्टी के द्वारा उम्मीदवारों की पहली सूची जारी होने के बाद नेताओं में बगावत के स्वर और तेज हो गए हैं। गंगोत्री समेत 22 विधानसभा क्षेत्र की सीटों पर असंतोष की लहर है। वर्षों से पार्टी की सेवा कर रहे नेताओं ने अपनी जगह बाहर से आए नेताओं को तरजीह देने पर असंतुष्ट हैं। 

घर के बजाय बाहरी लोगों को तरजीह

गौरतलब है कि भारतीय जनता पार्टी ने उत्तराखंड के लिए उम्मीदवारों की अपनी पहली सूची जारी कर दी है। इस सूची में अपना नाम न पाकर प्रदेश के नेताओं ने पार्टी का विरोध करना शुरू कर दिया है। पार्टी के जिन नेताओं को टिकट नहीं मिला उनका कहना है कि पार्टी उनकी जगह किसी दूसरे नेता को टिकट दे देती लेकिन पार्टी ने उनकी जगह बाहर से आए नेताओं को तरजीह दी। इससे उन्हें काफी दुख हुआ है। 

किस सर्वे के आधार पर दिया टिकट


भारतीय जनता पार्टी के अनुसार सर्वे के आधार पर जिन नेताओं को जिताऊ पाया गया है उन्हें ही टिकट दिया गया है। लेकिन सूची पर नजर डालें तो कांग्रेस से आए नेता यशपाल आर्य और उनके बेटे संजीव आर्य को टिकट देने पर पार्टी के नेता पूछ रहे हैं कि यहां पर कौन सा सर्वे किया था।

डेमेज कंट्रोल में जुटी पार्टी

बगावत का झंडा बुलंद होने वाली सीटों की अगर बात की जाए तो गंगोत्री, यमुनोत्री, यमकेश्वर, कोटद्वार, घनसाली, पुरोला, रुड़की, गंगोलीहाट, बागेश्वर, कपकोट,चैबट्टाखाल, राजपुर रोड, मसूरी, नरेन्द्रनगर, केदारनाथ, ज्वालापुर, अल्मोड़ी और काशीपुर सहित अन्य कई विधानसभा सीटें शामिल हैं।हालांकि भारतीय जनता पार्टी इस बात को लेकर डेमेज कंट्रोल के मोड में आ गई है। प्रदेश पार्टी अध्यक्ष अजय भट्ट ने बगावत करने वाले नेताओं से शांति और धैर्य बरतने को कहा है। नाराज नेताओं को मनाने के लिए कुछ केन्द्रीय नेताओं को भी जिम्मेदारी दी गई है लेकिन पार्टी इसमें बहुत ज्यादा कामयाब नहीं हो पाई है। ऐसे में प्रदेश में चुनावी समीकरण के बिगड़ने के आसार ज्यादा नजर आ रहे हैं।  

Todays Beets: