Friday, February 28, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

ऋषिकेश सीट -निर्दलीय और क्षेत्रिय पार्टी के उम्मीदवार काटते हैं जमकर वोट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
ऋषिकेश सीट -निर्दलीय और क्षेत्रिय पार्टी के उम्मीदवार काटते हैं जमकर वोट
उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2012 की नजर में

देहरादून। उत्तराखंड में विधानसभा चुनावों का बिगुल बज चुका है। पार्टी के नेता अपनी सीट से दावेदारी को मजबूत करने के लिए चुनावी रण में उतर रहे हैं। भाजपा, कांग्रेस, बसपा जैसी राष्ट्रीय पार्टियां और क्षेत्रिय पार्टियां भी चुनावी मैदान के प्रचार-प्रसार में जुट गई हैं। हालांकि किसी को नहीं पता कि मतदाताओं का रुझान किस तरफ है। वह किसे सिर-माथे पर बैठाना चाहते हैं। चलिए डालते हैं पिछले विधानसभा चुनावों में ऋषिकेश सीट पर एक नजर आखिर क्या थे इस सीट पर सियासी आंकड़े। 2012 में इस सीट पर मतदाताओं के रुझान पर नजर डालें तो सीधा मुकाबला भाजपा-कांग्रेस के बीच ही रहा लेकिन तीसरे नंबर पर रहे निर्दलीय उम्मीदवार ने चुनावों को रोचक बना दिया था।

पढ़ें-रुद्रप्रयाग सीट निर्दलीय और क्षेत्रिय दल कहीं फिर से न बिगाड़ दे सियासी समीकरण

सीट पर थे 19 उम्मीदवार 


ऋषिकेश विधानसभा सीट पर नजर डालें तो यहां कुल 118895 मतदाता थे। उनमें से 80798 (67.96%) लोगों ने अपने मतदान का प्रयोग किया। पिछले चुनावों में यहां से 19 उम्मीदवार खड़े हुए थे। भाजपा के प्रेमचंद अग्रवाल ने 29090 (36%) वोट हासिल करके कांग्रेस के राजपाल खरोला 21819 (27%) को महज 7271 (9%) वोटों के अंतर से हराया था। हालांकि खरोला को अच्छे मतों से हराने का सारा श्रेय भाजपा को ही नहीं जाता। कहा गया कि तीसरे नंबर पर रहने वाले दीप शर्मा ने कांग्रेस को भारी नुकसान पहुंचाया। दीप शर्मा ने इस सीट से 17669 (21.86%) वोट पाए थे। तो वहीं क्षेत्रिय पार्टी उत्तराखंड रक्षा मोर्चा के उम्मीदवार सुरेंद्र सिंह कैन्तुरा पांचवे नंबर पर रहकर 1429 (1.76%) वोट अपने पक्ष में किए। 

नौ निर्दलीय की झोली में आए थे 25 फीसदी वोट

2012 विभानसभा चुनावों में इस सीट पर नौ निर्दलीय उम्मीदवार खड़े थे। इन उम्मीदवारों ने भी वोटबैंक में सेंध लगाई। अगर इस सीट पर सभी निर्दलीय उम्मीदवारों के वोटों का गणित देखें तो भाजपा-कांग्रेस समेत अन्य दलों के करीब 25 फीसदी (20422) वोट काटे थे। 

Todays Beets: