Thursday, February 20, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

वैज्ञानिकों ने की नई अल्गोरिद्म विकसित, फेसबुक और ट्विटर के फर्जी यूजर्स का पता लगाना होगा आसान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
वैज्ञानिकों ने की नई अल्गोरिद्म विकसित, फेसबुक और ट्विटर के फर्जी यूजर्स का पता लगाना होगा आसान

नई दिल्ली। इन दिनों सोशल मीडिया साइट फेसबुक के डाटा लीक होने की खबर के बाद वैज्ञानिकों ने इसे ज्यादा सुरक्षित बनाने के लिए गलत और फेक यूजर्स की पहचान करने के लिए एक अलग किस्म का अल्गोरिथम विकसित किया है जिससे फेसबुक और ट्विटर पर फर्जी यूजर का पता आसानी से लगा सकते हैं। वैज्ञानिकों ने बताया कि ऐसा देखा गया है कि फर्जी यूजर ज्यादातर अपने दोस्तों को अजीबोगरीब लिंक भेजते हैं। 

गौरतलब है कि इजरायल में हुए शोध में इस बात का खुलासा हुआ कि हाल के दिनों में फेसबुक पर डाटा का सुरक्षित न रहना वैज्ञानिकों की चिंताएं बढ़ा रहा है। इस्राइल की बेन-गुरियोन यूनिवर्सिटी के प्रमुख शोधकर्ता दीमा कगान ने कहा, ‘हाल के दिनों में यूजर की निजता को सुरक्षित रखने में नाकामयाबी की चिंताजनक खबरें और चुनावों को प्रभावित करने के लिए रूस द्वारा सोशल मीडिया के लमन~नस"; सउद्देश्य  इस्तेमाल की खबरों के बाद फेक यूजरों को हटाना बहुत जरूरी हो गया है।


ये भी पढ़ें - रिलायंस जियो टेलीकाॅम कंपनियों को दे सकती है एक और झटका, बाजार में लाएगी सिम वाला लैपटाॅप

कगान ने कहा, ‘हमने हमारे अल्गोरिद्म की जांच 10 अलग - अलग सोशल नेटवर्कों पर मौजूद नकली और वास्तविक डाटा संग्रहों पर की। इसने दोनों पर ही अच्छे से काम किया।’ यह अध्ययन सोशल नेटवर्क एनालिसिस एंड माइनिंग पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। 

Todays Beets: