Thursday, July 19, 2018

Breaking News

   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||   नीतीश का गठबंधन को जवाब कहा गठबंधन सिर्फ बिहार में है बाहर नहीं     ||   जापान में बारिश का कहर जारी 100 से ज्यादा लोगों की मौत     ||   PM मोदी के नोएडा दौरे से पहले लगा भारी जाम, पढ़ें पूरी ट्रैफिक एडवाइजरी     ||    नीतीश ने दिए संकेत: केवल बिहार में है भाजपा और जदयू का गठबंधन, राष्ट्रीय स्तर पर हम साथ नहीं    ||   निर्भया मामले में तीनों दोषियों को होगी फांसी, सुप्रीम कोर्ट ने याचिका ठुकराई    ||   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||

अब आप पानी के अंदर रहने वाले जीवों के बारे में भी जान पाएंगे, वैज्ञानिकों ने तैयार किया रोबोट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब आप पानी के अंदर रहने वाले जीवों के बारे में भी जान पाएंगे, वैज्ञानिकों ने तैयार किया रोबोट

पानी के अंदर मछलियों की दुनिया कैसी होती होगी। वे किस तरह से रहती हैं इसके बारे में ज्यादा से ज्यादा लोग जानना चाहते हैं। हाल ही में वैज्ञानिकों ने अपनी खोज में एक ऐसे रोबोट को बनाया है जो उनके साथ ही पानी में डुबकियां लगा सकता है। स्विटजरलैंड के इकोल पॉलिटेक्निक फेडरल के शोधकर्ता डे लौसेन ने एक खोज की है उन्होंने एक ऐसा रोबोट बनाया है जो मछलियों के साथ तैर सकता है। यहां तक की मछलियां आपस में कैसे बात करती हैं ये भी सीख सकता है। 

स्वस्थ प्रजाति की मछली

आपको बता दें कि यह रोबोट बिल्कुल मछली की तरह ही दिखता है और इस रोबोट की लंबाई 7 सेंटीमीटर है। गौर करने वाली बात है कि शोधकर्ताओं ने इसके अध्ययन के लिए जेब्रा मछली का चुनाव किया। इस मछली को चुनने के पीछे एक बड़ा कारण यह था कि यह मछलियों की सबसे स्वस्थ प्रजाति है। इनका समूह तेजी से दिशा बदलता है और उतनी ही तेजी से एक तरफ से दूसरी तरफ चला जाता है। 

ये भी पढ़ें - आस्ट्रिया की एंजेला ने किया अनोखा कारनामा, दुनिया की सबसे मुश्किल चट्टान पर चढ़ने वाली पहली महिला बनी


 

जीवों के बारे में मिलेगी जानकारी

इस खास रोबोट को बनाने के लिए वैज्ञानिकों ने पशुओं से प्रेरणा ली है। उनका मानना है कि पशुओं के साथ रोबोट की बातचीत से शोधकर्ताओं को जीव विज्ञान और रोबोटिक्स के बारे में जानने में सहायता मिलेगी।

Todays Beets: