Tuesday, January 22, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

अब आप पानी के अंदर रहने वाले जीवों के बारे में भी जान पाएंगे, वैज्ञानिकों ने तैयार किया रोबोट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब आप पानी के अंदर रहने वाले जीवों के बारे में भी जान पाएंगे, वैज्ञानिकों ने तैयार किया रोबोट

पानी के अंदर मछलियों की दुनिया कैसी होती होगी। वे किस तरह से रहती हैं इसके बारे में ज्यादा से ज्यादा लोग जानना चाहते हैं। हाल ही में वैज्ञानिकों ने अपनी खोज में एक ऐसे रोबोट को बनाया है जो उनके साथ ही पानी में डुबकियां लगा सकता है। स्विटजरलैंड के इकोल पॉलिटेक्निक फेडरल के शोधकर्ता डे लौसेन ने एक खोज की है उन्होंने एक ऐसा रोबोट बनाया है जो मछलियों के साथ तैर सकता है। यहां तक की मछलियां आपस में कैसे बात करती हैं ये भी सीख सकता है। 

स्वस्थ प्रजाति की मछली

आपको बता दें कि यह रोबोट बिल्कुल मछली की तरह ही दिखता है और इस रोबोट की लंबाई 7 सेंटीमीटर है। गौर करने वाली बात है कि शोधकर्ताओं ने इसके अध्ययन के लिए जेब्रा मछली का चुनाव किया। इस मछली को चुनने के पीछे एक बड़ा कारण यह था कि यह मछलियों की सबसे स्वस्थ प्रजाति है। इनका समूह तेजी से दिशा बदलता है और उतनी ही तेजी से एक तरफ से दूसरी तरफ चला जाता है। 

ये भी पढ़ें - आस्ट्रिया की एंजेला ने किया अनोखा कारनामा, दुनिया की सबसे मुश्किल चट्टान पर चढ़ने वाली पहली महिला बनी


 

जीवों के बारे में मिलेगी जानकारी

इस खास रोबोट को बनाने के लिए वैज्ञानिकों ने पशुओं से प्रेरणा ली है। उनका मानना है कि पशुओं के साथ रोबोट की बातचीत से शोधकर्ताओं को जीव विज्ञान और रोबोटिक्स के बारे में जानने में सहायता मिलेगी।

Todays Beets: