Tuesday, November 21, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

अब आप पानी के अंदर रहने वाले जीवों के बारे में भी जान पाएंगे, वैज्ञानिकों ने तैयार किया रोबोट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब आप पानी के अंदर रहने वाले जीवों के बारे में भी जान पाएंगे, वैज्ञानिकों ने तैयार किया रोबोट

पानी के अंदर मछलियों की दुनिया कैसी होती होगी। वे किस तरह से रहती हैं इसके बारे में ज्यादा से ज्यादा लोग जानना चाहते हैं। हाल ही में वैज्ञानिकों ने अपनी खोज में एक ऐसे रोबोट को बनाया है जो उनके साथ ही पानी में डुबकियां लगा सकता है। स्विटजरलैंड के इकोल पॉलिटेक्निक फेडरल के शोधकर्ता डे लौसेन ने एक खोज की है उन्होंने एक ऐसा रोबोट बनाया है जो मछलियों के साथ तैर सकता है। यहां तक की मछलियां आपस में कैसे बात करती हैं ये भी सीख सकता है। 

स्वस्थ प्रजाति की मछली

आपको बता दें कि यह रोबोट बिल्कुल मछली की तरह ही दिखता है और इस रोबोट की लंबाई 7 सेंटीमीटर है। गौर करने वाली बात है कि शोधकर्ताओं ने इसके अध्ययन के लिए जेब्रा मछली का चुनाव किया। इस मछली को चुनने के पीछे एक बड़ा कारण यह था कि यह मछलियों की सबसे स्वस्थ प्रजाति है। इनका समूह तेजी से दिशा बदलता है और उतनी ही तेजी से एक तरफ से दूसरी तरफ चला जाता है। 

ये भी पढ़ें - आस्ट्रिया की एंजेला ने किया अनोखा कारनामा, दुनिया की सबसे मुश्किल चट्टान पर चढ़ने वाली पहली महिला बनी


 

जीवों के बारे में मिलेगी जानकारी

इस खास रोबोट को बनाने के लिए वैज्ञानिकों ने पशुओं से प्रेरणा ली है। उनका मानना है कि पशुओं के साथ रोबोट की बातचीत से शोधकर्ताओं को जीव विज्ञान और रोबोटिक्स के बारे में जानने में सहायता मिलेगी।

Todays Beets: