Tuesday, August 22, 2017

Breaking News

   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||   SC में आर्टिकल 370 को हटाने के लिए याचिका दायर, कोर्ट ने दिया केंद्र को नोटिस    ||   राज्यसभा में सिब्बल बोले- छप रहे 1 नंबर के दो नोट, सदी का सबसे बड़ा घोटाला    ||   नीतीश सरकार के मंत्रिमंडल का आज होगा विस्तार, शपथ ले सकते हैं 16 मंत्री    ||   सपा को तगड़ा झटका, बुक्कल नवाब समेत 2 MLC का इस्तीफा, की मोदी-योगी की तारीफ    ||   नगालैंड: शुरहोजेली ने विश्वासमत से पहले ही मानी हार, ज़ेलियांग ने ली CM पद की शपथ    ||   बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा- पार्टी कहेगी तो दे दूंगा इस्तीफा    ||   डोकलाम विवाद: भारतीय सीमा के पास खूब हथियार जमा कर रहा है चीन!    ||   रवि शास्त्री की चाहत- सचिन को मिले भारतीय बल्लेबाजी का जिम्मा    ||

95 फीसदी भारतीय को है दांतों की बीमारी,रिपोर्ट  में हुआ खुलासा

अंग्वाल संवाददाता
95 फीसदी भारतीय को है दांतों की बीमारी,रिपोर्ट  में हुआ खुलासा

नई दिल्ली। भारत में फास्ट फूड खाने की बढ़ती आदतें अब भारतीयों की सेहत के साथ- साथ उनके दांतों पर भी असर डाल रही हैं। हाल में हुए एक अध्ययन में पाया गया है कि 95 फीसदी भारतीय मूसड़ों की समस्या से प्रभावित हैं। इसमें सामने आया है कि 50 फीसदी लोग आपको दांतों को साफ करने के लिए टूथब्रश का इस्तेमाल नहीं करते है। साथ ही रिपोर्ट में सामने आया है कि 15 साल से कम उम्र के 70 फीसदी बच्चों के दांत खराब हो चुके हैं। इसका कारण बच्चों का दांतों को ढंग से ब्रश न करने को अहम कारण बताया जा रहा है। भारतीय लोगों में अपने दांतों को साफ रखने वाले लोगो की संख्या बहुत ही कम है। डॉक्टरों के सलाह देने के बाद भी भारतीय दांतों की बीमारी को गंभीरता से नहीं लेते हैं। दांतों को साफ रखने के लिए डॉक्टर की तरफ से दिन में दो बार ब्रश करने की सलाह दी जाती है, लेकिन इस सलाह को अपनाने वालों की संख्या बहुत ही कम है। 

यह भी पढ़े- बढ़ानी है अगर एकाग्रता तो सुधारें अपनी सोने की आदतों को..,


वहीं इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की रिपोर्ट ने बताया कि भारतीय लोग दांतों में समस्या होने पर डेंटिस्ट के पास जाने के बजाय खुद ही बीमारियों का इलाज ढूंढते हैं । कुछ चीजों से परहेज कर खुद ही अपना उपचार करने की कोशिश करते हैं। साथ ही रिपोर्ट में बताया गया कि दांतों में सेंसिटिविटी एक बड़ी समस्या हैं, लेकिन इस समस्या से पीड़ित केवल 4 फीसदी लोग ही डेंटिस्ट के पास सलाह और उपचार के लिए जाते हैं।    

यह भी पढ़े- कैंसर पीड़ितों को नहीं सहना पड़ेगा इलाज के दौरान जानलेवा दर्द, जेएनयू के वैज्ञानिक डॉक्टर ने खोज निकाली यह दवा 

Todays Beets: