Monday, October 23, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

95 फीसदी भारतीय को है दांतों की बीमारी,रिपोर्ट  में हुआ खुलासा

अंग्वाल संवाददाता
95 फीसदी भारतीय को है दांतों की बीमारी,रिपोर्ट  में हुआ खुलासा

नई दिल्ली। भारत में फास्ट फूड खाने की बढ़ती आदतें अब भारतीयों की सेहत के साथ- साथ उनके दांतों पर भी असर डाल रही हैं। हाल में हुए एक अध्ययन में पाया गया है कि 95 फीसदी भारतीय मूसड़ों की समस्या से प्रभावित हैं। इसमें सामने आया है कि 50 फीसदी लोग आपको दांतों को साफ करने के लिए टूथब्रश का इस्तेमाल नहीं करते है। साथ ही रिपोर्ट में सामने आया है कि 15 साल से कम उम्र के 70 फीसदी बच्चों के दांत खराब हो चुके हैं। इसका कारण बच्चों का दांतों को ढंग से ब्रश न करने को अहम कारण बताया जा रहा है। भारतीय लोगों में अपने दांतों को साफ रखने वाले लोगो की संख्या बहुत ही कम है। डॉक्टरों के सलाह देने के बाद भी भारतीय दांतों की बीमारी को गंभीरता से नहीं लेते हैं। दांतों को साफ रखने के लिए डॉक्टर की तरफ से दिन में दो बार ब्रश करने की सलाह दी जाती है, लेकिन इस सलाह को अपनाने वालों की संख्या बहुत ही कम है। 

यह भी पढ़े- बढ़ानी है अगर एकाग्रता तो सुधारें अपनी सोने की आदतों को..,


वहीं इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की रिपोर्ट ने बताया कि भारतीय लोग दांतों में समस्या होने पर डेंटिस्ट के पास जाने के बजाय खुद ही बीमारियों का इलाज ढूंढते हैं । कुछ चीजों से परहेज कर खुद ही अपना उपचार करने की कोशिश करते हैं। साथ ही रिपोर्ट में बताया गया कि दांतों में सेंसिटिविटी एक बड़ी समस्या हैं, लेकिन इस समस्या से पीड़ित केवल 4 फीसदी लोग ही डेंटिस्ट के पास सलाह और उपचार के लिए जाते हैं।    

यह भी पढ़े- कैंसर पीड़ितों को नहीं सहना पड़ेगा इलाज के दौरान जानलेवा दर्द, जेएनयू के वैज्ञानिक डॉक्टर ने खोज निकाली यह दवा 

Todays Beets: